For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Poonam Matia
  • Female
Share

Poonam Matia's Friends

  • harivallabh sharma
  • DR. HIRDESH CHAUDHARY
  • vinay tiwari
  • CHANDRA SHEKHAR PANDEY
  • Dr Babban Jee
  • RAMESH YADAV
  • annapurna bajpai
  • anand murthy
  • Tushar Raj Rastogi
  • आशीष नैथानी 'सलिल'
  • सूबे सिंह सुजान
  • अरुन 'अनन्त'
  • Raj Kumar Rohilla
  • deepti sharma
  • SANDEEP KUMAR PATEL

Poonam Matia's Groups

 

Poonam Matia's Page

Latest Activity

Poonam Matia commented on Poonam Matia's blog post मुक्तक -कोरोना
"धन्यवाद  @सूबे सिंह जी ........ कोरोना पर काफ़ी कुछ लिख डाला हाल ही में"
Apr 9, 2020
सूबे सिंह सुजान commented on Poonam Matia's blog post मुक्तक -कोरोना
"पूनम माटिया जी करोना पर अच्छी रचना हुई है बहुत बहुत बधाई हो "
Mar 22, 2020
Poonam Matia commented on Poonam Matia's blog post मुक्तक -कोरोना
"नमस्कार ! बहुत समय बाद ओ बी ओ में कुछ नया पोस्ट किया | आ.@लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी और आ.समर कबीर जी आपके द्वारा मिले प्रोत्साहन-पुष्पों  के लिए हृदयतल से आभार"
Mar 19, 2020
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Poonam Matia's blog post मुक्तक -कोरोना
"आ. पूनम जी, सादर अभिवादन । वर्तमान परिप्रेक्ष में अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई ।"
Mar 17, 2020
Samar kabeer commented on Poonam Matia's blog post मुक्तक -कोरोना
"मुहतरमा पूनम मटिया जी आदाब, मुक्तक का अच्छा प्रयास हुआ है, बधाई स्वीकार करें ।"
Mar 15, 2020
Poonam Matia posted a blog post

मुक्तक -कोरोना

किसी की जां पे बन आई, किसी को खेल कोरोना नहीं मुश्किल, बहुत आसान अपने 'हाथ ही धोना' कि छोटी-छोटी बातों को रखो तुम ध्यान में अपने रहेगा दूर फिर हमसे विदेशी रोग का रोनाचलो छोड़ो गले मिलना,'नमस्ते' ही को अपनाओ बढ़ाओ अपनी क्षमता और 'शाकाहार' ही खाओ कि 'चुन्नी और गमछा' ही बहुत हैं मुंह को ढकने को हमारी संस्कृति आला इसे उपयोग में लाओपूनम माटियाSee More
Mar 15, 2020

Profile Information

Gender
Female
City State
New Delhi
Native Place
New Delhi
Profession
teaching,painting ,writing
About me
love to be jst a free bird

Poonam Matia's Blog

मुक्तक -कोरोना

किसी की जां पे बन आई, किसी को खेल कोरोना

नहीं मुश्किल, बहुत आसान अपने 'हाथ ही धोना'


कि छोटी-छोटी बातों को रखो तुम ध्यान में अपने

रहेगा दूर फिर हमसे विदेशी रोग का रोना

चलो छोड़ो गले मिलना,'नमस्ते' ही को अपनाओ

बढ़ाओ अपनी क्षमता और 'शाकाहार' ही खाओ…

Continue

Posted on March 15, 2020 at 1:00am — 5 Comments

मेरे कान्हा

मुश्किल में हूँ कान्हा

कैसे तोहे नैनों में बसाऊँ

मेरे श्याम सांवरे

कैसे तोहे मीठे बैन सुनाऊं

कभी तेरे कुंडल मोहें मोहे  

कभी माथे की बिंदिया

कभी तेरी बंसी छेड़े मोहे 

कभी अँखियाँ छीने निंदिया

मुश्किल में हूँ कान्हा

कैसे तोहे नैनों में बसाऊँ

लाल-पीली पगड़ी पे कान्हा

मोती बन माथे पे लटक जाऊं

कभी होठों की लाली मोहे मोहे  

कभी भाल का चन्दन

कभी तेरी बतियां सोहे मोहे 

कभी राधिका…

Continue

Posted on January 15, 2014 at 1:30am — 12 Comments

"हाउसवाइफ कहलाने में शर्म क्यूँ ? यह तो गर्व की बात है"

विभिन्न क्षेत्रों में कार्यरत महिलाएं जिस तरह बड़े-बड़े पैकेज (हज़ारों ,लाखों में ) ले रही हैं उसे देख अधिकतर महिलाएं खुद को बहुत नीचा या कमतर समझती है  जब उनसे पूछा जाता है कि वे क्या करती हैं ........और शर्म महसूस करती हैं.यह बताने में कि वे केवल हाउसवाइफ हैं .



यह इसलिए कि हाउसवाइफ का मतलब अक्सर यह समझा जाता है कि या तो वह घर में चूल्हा-चौका करती है या फिर सिर्फ किट्टी पार्टियों में अपना समय व्यतीत करती हैं ....... जबकि वास्तविक स्थिति इसके बिलकुल विपरीत होती है ...अधिकांश महिलाएं…

Continue

Posted on January 14, 2014 at 5:30pm — 22 Comments

Comment Wall (5 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 2:35am on June 29, 2014, Adesh Tyagi said…
तहरीके-ग़ज़ल मोहतरमा पूनम माटिया साहिबा, तहे-दिल से मुहब्बतों का शुक्रगुज़ार हूँ। हालांकि ग़ज़ल तो शुक्रवार को ही तख़्लीक़ हो गई थी मगर पेशावर दुश्वारियों के चलते पोस्ट न कर पाया था।
At 8:30pm on August 20, 2012, SANDEEP KUMAR PATEL said…

आदरणीया पूनम माटिया मेम , ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,ये सब आपके और आदरणीय नरेश माटिया सर के निरंतर उत्साहवर्धन, स्नेह  और आशीर्वाद का ही परिणाम है
इसे सदैव मुझ पर यूँ ही बनाए रखिये आपका सदैव आभारी हूँ

At 7:59pm on June 25, 2012, Raj Kumar Rohilla said…

oh god

                  i just saw that your hobby is also painting very good iam very happy to know all.

keep it up

bravo

At 9:22pm on June 23, 2012, Raj Kumar Rohilla said…

poonam ji main aapki kavita khoj raha tha par nahin mili?plz tell me how i can read/access them.thanks and regards.

At 6:35pm on January 19, 2012, Admin said…

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Samar kabeer commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसके हिस्से में क्यों रास्ता कम है- लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"//क्या इस बह्र को किसी और प्रचलित बह्र में बदला जा सकता है?// बिल्कुल बदला जा सकता है, आपका मतला…"
5 hours ago
Deepanjali Dubey replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"मात शारदे वंदन करती रोज आपको शीष नवाय धार लेखनी मे तुम भरदो,बैठो अब लेखन मे आय। बैठे-बैठे पाती…"
5 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"आकाश लाल है सूर्य उदित, जनता उठी सवेरा जान।सत्ता के सारे झूठ मिटा, वो गढ़ने अब नव प्रतिमान।।पाये…"
6 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"सादर अभिवादन.."
6 hours ago
Samar kabeer posted a blog post

एक ताज़ा ग़ज़ल

ग़ज़ल2212 1122 1212 22/112सुख़न में पैदा तेरे किस तरह कमाल हुआसुख़न में तेरे बता कैसे ये कमाल हुआहज़ार…See More
6 hours ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"आल्हा   / वीर छंद  :  विषय  :जनसंख्या विस्फोट  जनसंख्या सीमित …"
8 hours ago
सालिक गणवीर commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post उसके हिस्से में क्यों रास्ता कम है- लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' जी सादर अभिवादन अच्छी  ग़ज़ल  हुई…"
14 hours ago
सालिक गणवीर commented on Md. Anis arman's blog post ग़ज़ल
"भाई अनीस अरमान जी आदाब बहुत उम्दः ग़ज़ल कही है आपने. बधाइयाँँ स्वीकार करें."
14 hours ago
सालिक गणवीर commented on सालिक गणवीर's blog post मंज़िल की जुस्तजू में तो घर से निकल पड़े..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदरणीय  Chetan Prakash जी सादर प्रणाम ग़ज़ल पर आपकी उपस्थिति और सराहना के लिए आपका शुक्रगु़ज़ार…"
15 hours ago
Chetan Prakash commented on सालिक गणवीर's blog post मंज़िल की जुस्तजू में तो घर से निकल पड़े..( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आदाब,  सालिक गणवीर साहब,  छोटी  सी किन्तु  खूबसूरत ग़ज़ल  कही आपने,…"
16 hours ago

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 123 in the group चित्र से काव्य तक
"हार्दिक स्वागत है, सुधीजनो !"
yesterday

सदस्य टीम प्रबंधन
Saurabh Pandey commented on Sushil Sarna's blog post दोहा त्रयी. . . .
"वाह .. आपकी छांदसिक यात्रा के प्रति साधुवाद  शुभातिशुभ"
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service