For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

पापा मम्मी आप भी आओ

पापा मम्मी आप भी आओ


उन पुरानी गलिओं से फिर
ख्याल अपने दिल तक आये
आँगन में थे खिलते उन कलियों से
सवाल अपने दिल तक आये
दौरते आते सारे किस्से
कोई बैठकर मुझे सुनाओ
आँखे तरस रही दर्शन को
पापा मम्मी आप भी आओ


गहरी जाती उन घाटीयों से
संकराति गूंजे घूम रही हैं
चट्टानों पे रेत की बूंदे
अब भी मानो झूम रही हैं
भूलते जाते उन पन्नो से
पुरानी कुछ गजलें सुनाओ
सांसें बोल रही धरकन को
पापा मम्मी आप भी आओ


बीते उन त्योहारों में
मेरे चीजें हज़ार सजाओ
बीतते जाते मीलों लम्हों की
नन्ही सी कतार सजाओ
अगले दिन डाकिया संग
अपनी यादें खूब भिजवाओ
सारे पकवान पक गए अब
पापा मम्मी आप भी आओ

Views: 257

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by seema agrawal on November 4, 2012 at 10:50am

बीते उन त्योहारों में 
मेरे चीजें हज़ार सजाओ 
बीतते जाते मीलों लम्हों की 
नन्ही सी कतार सजाओ

भावपूर्ण प्रस्तुति 


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on November 3, 2012 at 10:37am

बहुत कोमल भावनाओं से परिपूर्ण रचना के लिए ह्रदय से बधाई 

Comment by shalini kaushik on November 3, 2012 at 12:53am

आपकी प्रस्तुति सराहनीय हैं आभार 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय जनाब मुनिश तन्हा जी अच्छी ग़ज़ल के लिये बधाई स्वीकार करें"
13 seconds ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय जनाब सालिक जी खूबसूरत ग़ज़ल के लिये धन्यवाद स्वीकार करें"
1 minute ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय जनाब धामी जी बेहद खूबसूरत ग़ज़ल है बधाई स्वीकार करें"
3 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"अच्छी ग़ज़ल के लिये आदरणीय जनाब जान जी मुबारकबाद कुबूल करें"
4 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय राजेश कुमारी जी एक खूबसूरत ग़ज़ल के लिये दिल से मुबारकबाद कुबूल करें"
6 minutes ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी आदाब, तरही मिसरे पर अच्छी ग़ज़ल कही है आपने मुबारकबाद पेश करता…"
7 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय रिचा जी खूबसूरत ग़ज़ल हुई है बधाई स्वीकार करें"
8 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"आदरणीय जनाब रवि जी दिल से मुबारकबाद अच्छी ग़ज़ल के लिये"
11 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"अच्छी ग़ज़ल के लिये आदरणीय संजय जी दिल से शुक्रिया स्वीकार करें"
14 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"अच्छी ग़ज़ल के लिये आदरणीय नाथ जी दिल से बधाई स्वीकार करें"
17 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"शुक्रिया आदरणीय जनाब अमीर जी ग़ज़ल तक आने और हौसला बड़ाने के लिये दिल से आभार स्वीकार करें"
22 minutes ago
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-128
"प्रिय भाई निलेश जी खूबसूरत ग़ज़ल है बधाई स्वीकार करें"
25 minutes ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service