For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Manav Mehta
  • Male
Share

Manav Mehta's Friends

  • गिरिराज भंडारी
  • Vasundhara pandey
  • Priyanka singh
  • यशोदा दिग्विजय अग्रवाल
  • Usha Taneja
  • डॉ नूतन डिमरी गैरोला
  • Neelima Sharma Nivia
  • वेदिका
  • vijay nikore
  • Dr.Prachi Singh
  • MAHIMA SHREE
  • Kiran Arya
  • Saurabh Pandey
 

Manav Mehta's Page

Profile Information

Gender
Male
City State
Tohana
Native Place
Rohtak
Profession
Teacher

Manav Mehta's Blog

फना...

तन्हाई की हांडी में,
दर्द उबलता रहा-
उबलता रहा...!!

गम के अलाव जलाते रहे जिस्म मेरा...
मेरी ख्वाहिशें सिमट गई-
घुटन की चादर में...

एहसास मेरे दम तोड़ गए-
मुझमें ही कहीं...!!

फिर भी कुछ कमी थी-
मेरे फना होने में शायद...
तभी इक टुकड़ा तेरी मोहब्बत का,
आ गिरा मेरे दिल के आँगन में...!!


मौलिक/अप्रकाशित

Posted on August 25, 2013 at 8:30pm — 8 Comments

Comment Wall (3 comments)

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

At 10:19pm on September 11, 2013, vijay nikore said…

मित्रता का हाथ बढ़ा कर मान देने के लिए धन्यवाद, आदरणीय मानव, जी।

सादर,

विजय निकोर

At 1:04pm on August 29, 2013,
सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी
said…

स्वागत है मित्र आपका !!

At 10:53am on August 25, 2013,
सदस्य कार्यकारिणी
गिरिराज भंडारी
said…

मानव जी , स्वागत है ओबीओ मे !!

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आदरणीय दण्डपाणि नाहक जी बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार करें।"
4 minutes ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आदरणीय भाई Naveen Mani Tripathi जी सादर अभिवादन तरही मुशाइरः की बढ़िया प्रथम प्रस्तुति के लिए…"
8 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"भाई लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर जी, बहुत ख़ूब ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार करें।"
10 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आदरणीया ऋचा यादव जी 3 शेर बहुत पसंद आया ।दाद क़ुबूल करें। सर् की इस्लाह के बाद सुधार करने पर ग़ज़ल…"
13 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आ. रचना बहन सादर अभिवादन। तरही मिसरे पर खूबसूरत गजल हुई है । हार्दिक बधाई। आ. भाई अनिल जी की राय से…"
16 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आदरणीय अनिल कुमार सिंह जी, बेहतरीन ग़ज़ल हुई बधाई स्वीकार करें।"
18 minutes ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आदरणीय  Anil Kumar Singh  जी सादर अभिवादन ग़ज़ल पर आपकी आमद और सराहना के लिए ह्रदय से…"
22 minutes ago
सालिक गणवीर replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"प्रिय भाई लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'जी सादर अभिवादन ग़ज़ल पर आपकी आमद और सराहना के लिए ह्रदय से…"
24 minutes ago
Rachna Bhatia replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आदरणीय संजय शुक्ला जी,सर् की इस्लाह के बाद ग़ज़ल बेहतरीन हो गई है। बधाई स्वीकार करें।"
26 minutes ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"मुहतरमा ऋचा यादव जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है, बधाई स्वीकार करें । 'बरसात की…"
26 minutes ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन । बेहतरीन गजल हुई है । हार्दिक बधाई स्वीकारें। मुझे लगता है कि…"
38 minutes ago
munish tanha replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-135
"आए नहीं वो रात हुए नीमजां से हम दर पे टिकी निग़ाहें संगे आस्ताँ से हम इस ज़िन्दगी से दूर चले बन धुँआ…"
1 hour ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service