For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

लोकपाल बिल पे आप लोगों की राय चाहिए

दोस्तों लोकपाल बिल पे आप लोगों की राय चाहिए , अन्ना हजारे और सरकार के बिच जो द्वन्द युद्ध चल रहा हैं , वह देश हित में सही हैं या गलत , सही हैं तो क्यों गलत हैं तो कैसे ,

Views: 1045

Reply to This

Replies to This Discussion

वन्दे मातरम गुरु जी,


आपका सवाल है की देश हित में लोकपाल पर चल रहा द्वन्द युद्ध सही है या गलत?


गुरु जी देश हित के लिए अन्ना की पहल जिसे सरकार की बेईमानी ने एक युद्ध का रूप दे दिया है, बेहद जरूरी है एक अच्छा लोकपाल बनना ही चाहिए ....... और इसके दायरे में चपरासी से लेकर प्रधान मंत्री तक, जनता से लेकर नेता तक सब आने  ही चाहिए....... हर बेईमान के लिए एक कठोर सजा का प्रावधान होना ही चाहिए...... कोई भी भ्रष्टाचारी बचना नही चाहिए........

अन्ना ने एक अलख जगाई है ......... हमे आगे आकर इसमें अपना योगदान अवश्य ही करना चाहिए ........ बल्कि एक सुंदर भारत के लिए हमे इस आन्दोलन को इतना सशक्त बनाना होगा की सरकार किसी भी तरह इस आन्दोलन को कुचलने के बारे में सोच भी ना सके.


जय हिंद जय भारत

राकेश जी आपकी बातों से मैं सहमत हूँ तो क्यों न हम OBO पे भी अलख जगाएं ,

Dear Rakesh ji

                       I am too young for this discussion but by my thoughts we have to stand for purify our soul first. Mr Hazare is fighting with Government only but he can not change our dirty mind. We have to burn the candle of truth and fairness in our soul in spite of any pilgrims.

After that only we can win with curruption.

                                                                                                       Nitish

yes mr. nitish . i agree with you 

"Too young you are..."

 

I don't know what your age is, bro,  your sentences are convincing and encouraging.

You should, please, know, young minds only, but, can take and balance the leading torch in hand to usher in the entire society to a coveted world. Enlisted here are a few to keep you remembered.. Khudiram, Jatindas, Bhagat... all of them were below 25 yrs, bubbling with energy and nascent zeal, and could take on the brutal Britishers. ..

Thanks a lot for sharing your views. 

Dear Saurabh Ji

                        Thanks for your couraging msg. I know age doesn't matter in the way to fight for real independence. I also know the future of India is in hand of the young people. I always admire the person who stand for our country e.g. Bhagat Singh, Bapu, Neta Ji, Azad ji, but they are not in earth now. So on behalf of the young people of india I Nitish Kumar Pandey appeal the great people like you to come forward and guide us so that we can live our dreams & serve india.

 

Nitish

aakhir isme galat kya hai? yah to sabke liye hoga. fir unki kyo ............... rahi hai|

kyongi lokpal aa gaya to inki hekdi nikal jayegi ashish bhai

ye log sochte hai ki agar ham dhanwaan honge to hi desh dhanwaan hoga. baat sahi hai, lekin jab desh ko hi lootkar dhanwaan honge to fir ban gaya| gart ke alawa aur kaha jaayega desh.

गुरु जी,

एक अत्यंत सार्थक और महत्वपूर्ण चर्चा का धरातल तैयार करने के लिए सादर आभार....

श्री अन्ना हजारे का आवाहन निश्चित रूप से हम सब के भ्रष्टाचार मुक्त, उन्नत भारत के ख़्वाबों को साकार करने की दिशा में एक नयी आधारशीला रखती हुई प्रतीत होती है...

लेकिन धन और सत्ता लोलुप कुटिल शख्सियतें इस आधारशीला पर भवन निर्माण की अनुमति अपनी शर्तों पर देना चाहती हैं... पांच मंजिल से ज्यादा नहीं  बनाना.... अनाधिकृत निर्माण नहीं करना.... सारा निर्माणकार्य पर्यवेक्षक की निगरानी में करना... इतनी जगह छोड़ना... दिवार की मोटाई इससे ज्यादा नहीं रखना.... क्योंकि  उन्हें बस यही आता है... "अड़ंगे लगाना" और गुरु भाई उनका अडंगा लगाना जायज भी तो है क्या? आखिर कुछ अरब भूखे नंगे लोगों की पेट भरने के लिए वे अपने पेट पर लात कैसे बर्दाश्त कर लेंगे...? सो बचाव के लिए वे सारे जायज और नाजायज हथकंडे अपना रहे हैं.

और दूसरी बात जैसा युवा भाई नितीश ने इंगित भी किया है कि हम सब को अपने भीतर सत्य का दीप जलाने की आवश्यकता है ताकि हमारी आत्मा और हमारी राहें प्रकाशित हो.... हकीकत यही है कि आज हिन्दुस्तान ने, कारण चाहे मजबूरी हो चाहे स्वेच्छा, पर भ्रष्टाचार को शिष्टाचार के रूप में स्वीकार कर लिया है... सिद्धान्तः हर व्यक्ति भ्रष्टाचार के खिलाफ है फिर भी हर व्यक्ति की राय होती है कि हम क्या कर सकते हैं? अरे, अगर हिन्दुस्तान के १२५ करोड़ लोग एक साथ अपने स्थान पर खड़े होकर इमानदारी से चिल्लाना भी शुरू कर दे तो अंधी/बहरी सरकार की आँखें देखने और कान सुनने लगेंगे... इसलिए हम सब के लिए आवश्यक है कि हम श्री अन्ना के 'बिल' और अपने सच्चे 'दिल' का समर्थन करें... क्योंकि जब तक 'बिल' और 'दिल' में साम्य नहीं होगा कोई बिल भ्रष्टाचार को कम नहीं कर सकता....

सादर आभार...

संजय जी आपकी बात सही हैं तो क्यों न हम आज से ही और OBO के द्वारा अन्ना हजारे जी के कदम से कदम मिलाएं

वन्दे मातरम बंधुओं,
नेट ने मिश्र में एक नई क्रांति पैदा कर दी..... पूरी की पूरी सरकार बदल गई ......बड़ी ताकत है सोसल वेब साइट्स में.... हम सबको भी एक नई सोच के साथ लोकपाल के समर्थन में आगे आना ही होगा ......... मैं आपमें से किसी एक भाई की कही बात से पूर्णतया सहमत हूँ की हम सुधरेंगे जग सुधरेगा ....... सबसे पहले हमे अपना सुधार करना ही होगा.........

हम आज से ही और OBO के द्वारा अन्ना हजारे जी के कदम से कदम मिलाएं

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Nilesh Shevgaonkar commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-तुम्हारे प्यार के क़ाबिल
"आ. बृजेश जी,मुद्दा नहीं मुद्दआ होता है अत: आप मतला पुन: कहें . मैं भी मुँह में ज़बान रखता…"
35 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-80 (विषय: आकर्षण)
"तक़ाज़ा (लघुकथा) : दफ़्तर में काफ़ी काम निबटाने के बाद लिपिक बड़े बाबू दूसरे कक्ष में पहुंचे थे, तो कुछ…"
3 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-80 (विषय: आकर्षण)
"वाह। बहुत ही उम्दा लिखा है आपने। शायद इस मासिक गोष्ठी में हम पहली बार आपकी रचना पढ़ रहे हैं। हार्दिक…"
3 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-80 (विषय: आकर्षण)
"आदाब। इस गोष्ठी का आकर्षण बढ़ाती हुई रचना के साथ  इसका आग़ाज़करने हेतु बहुत-बहुत मुबारकबाद…"
3 hours ago
Samarth dev replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-80 (विषय: आकर्षण)
"दोस्त 1 :तुझे तो कोई पुराने हिन्दी गाने सुनने वाली पसन्द होगी क्योकि खुद दिन भर सुनता है…"
10 hours ago
Rakshita Singh left a comment for Samarth dev
"Welcome !"
10 hours ago
Samarth dev is now a member of Open Books Online
10 hours ago
Rakshita Singh replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-80 (विषय: आकर्षण)
"उस रोज़ तुम पर हाथ उठाते-उठाते, मैं रुक गया। अचानक ज़हन में उठा सुधा का ख़याल, मुझे खींच ले गया…"
10 hours ago
Admin replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-80 (विषय: आकर्षण)
"स्वागतम"
11 hours ago
Sushil Sarna posted blog posts
11 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post बन्धनहीन जीवन :. . . .
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार "
13 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post तेरे मेरे दोहे ......
"परम आदरणीय सौरभ पाण्डेय जी सादर प्रणाम सर सृजन पर आपकी विस्तृत समीक्षात्मक टिप्पणी का दिल से…"
13 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service