For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Euphonic Amit
  • Male
  • New Delhi
  • India
Share on Facebook MySpace

Euphonic Amit's Friends

  • Samar kabeer

Euphonic Amit's Groups

 

Euphonic Amit's Page

Latest Activity

Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय रवि भाई जी 'कहियो' पाठकों को इसलिए खटक रहा है क्योंकि आपकी ग़ज़ल के मिज़ाज के साथ 'कहियो' फिट नहीं होता।  ग़ज़ल का मिज़ाज समझना भी ज़रूरी है  मैं तक़ाबुल के साथ भी 'कहिए' की ही पक्ष में हूँ क्योंकि…"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय डंडापानी नाहक जी, अच्छी ग़ज़ल की बधाई एवँ शुभकामनाएँ स्वीकार करें। सुझाव - यक-ब-यक रोकिए न मुझ पे सितम ले लिया इसने जुलम की जगह ज़ुल्म       "
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय दिनेश कुमार विश्वकर्मा जी आदाब, तरही मिसरे पर अच्छा प्रयास किया आपने मगर ग़ज़ल में अभी कच्चापन है। मतला ठीक नहीं हुआ, चारपाई वाले शेर का भाव समझ नहीं आया । सुझाव~ आज जो कुछ भी मिल रहा है ये मेरी  मिहनत  का  ही सिला है…"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय नादिर ख़ान जी अच्छी ग़ज़ल हुई है। बधाई एवँ शुभकामनाएँ क़ुबूल करें।"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय अशोक कुमार रक्ताले जी, ग़ज़ल पर आपकी आमद, सकारात्मक टिप्पणी, एवं हौसला अफ़्ज़ाई के लिए बहुत बहुत शुक्रिय:।"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"जी जनाब सही फ़रमाया आपने,  मैंने देवनागरी लिपि के हिसाब से प्रचलित रूप में मात्राएँ लिख दीं। किन्तु चाहे शहर लिखें या शह्र, सुबह लिखें या सुब्ह हमें उसका सही वज़्न पता होना चाहिए जो 21 है। सादर "
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय उस्ताद-ए-मुहतरम समर कबीर साहिब जी, चरण स्पर्श!  नाचीज़ दाद, इस्लाह और आशीर्वाद के लिए हृदय तल से आभारी है।  मेरे लेखन में जो भी अच्छा है वो आप की ही बदौलत है, और जो भी कमियाँ हैं वो शीघ्र ही आपके आशीर्वाद और मार्गदर्शन द्वारा ठीक हो…"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय संजय शुक्ला जी सुप्रभात, ग़ज़ल पर आपकी आमद, सकारात्मक टिप्पणी, हौसला अफ़्ज़ाई एवं क़ीमती सुझाव के लिए बहुत बहुत धन्यवाद ।"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"जनाब मनन कुमार सिंह जी सुप्रभात, महज़=मह्ज़ का वज़्न अस्ल में 21 है और तोहफ़ा का शुद्ध उर्दू रूप तुहफ़: 22 है। मह्ज़ तुहफ़: 2122। आशा है शंका का समाधान हो गया होगा। सादर"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit updated their profile
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"महोदया ऋचा यादव जी सुप्रभात,  ग़ज़ल को अपना क़ीमती वक़्त देने के लिए और  अपनी दाद से नवाज़ने के लिए आपका हार्दिक आभार।"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय रवि भसीन 'शाहिद' भाई सुप्रभात, ग़ज़ल पर आपकी आमद, सकारात्मक टिप्पणी, एवं हौसला अफ़्ज़ाई के लिए बहुत बहुत शुक्रिय: । माँ शारदे हम सब पर अपनी कृपा बनाए रखे ऐसी प्रार्थना करता हूँ।"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय नाथ सोनांचली जी आदाब, तरही मिसरे पर उम्दा ग़ज़ल कही है आपने। मुबारकबाद और दाद क़ुबूल फ़रमाएँ। ये अश'आर बहुत पसंद आए~ //ख़ुद के अंदर भी है कमी लेकिन हर किसी को कहाँ पता है ये // //आप क्या हो इसे बताओ मत आपके चहरे पर लिखा है ये// सुझाव…"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"महोदया ऋचा यादव जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का अच्छा प्रयास हुआ है, बधाई एवं शुभकामनाएँ स्वीकार करें।  सुझाव - दुश्मनों से न था कोई ख़तरा वार इक दोस्त ने किया है ये  तू न आया न नींद आई कभी मेरी क़िस्मत में रतजगा है ये   …"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय अशोक कुमार रक्ताले जी आदाब। तरही मिसरे पर ग़ज़ल कहने का अच्छा प्रयास किया है आपने। बधाई एवं शुभकामनाएँ स्वीकार कीजिये।"
Sep 28, 2022
Euphonic Amit replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-147
"आदरणीय जयनित कुमार मेहता जी आदाब, तरही मिसरे पर ग़ज़ल का प्रयास अच्छा है। मेरी दुआएँ और शुभकामनाएँ क़ुबूल फ़रमाएँ। "
Sep 28, 2022

Profile Information

Gender
Male
City State
New Delhi
Native Place
New Delhi
Profession
Singer
About me
Singer Songwriter

Comment Wall

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

  • No comments yet!
 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Sanjay Shukla replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"212 212 212 212 वक़्त पड़ जाए कम ज़िंदगी के लिये बैठ जाऊँ मैं गर दो घड़ी के लिये /1 इक चमक मेरी…"
3 hours ago
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"212      212     212     212 भूल जाये दुनिया वो…"
4 hours ago
Richa Yadav replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"212 212 212 212 इससे बढ़कर नहीं कुछ किसी के लिएहर कोई जीता है फैमिली के लिये 1 ओढ़ कर रात आई अँधेरा…"
4 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"इश्क़ काफ़ी नहीं ज़िन्दगी के लिए और कुछ चाहिए आदमी के लिए मयक़दे में भी मौजूद है वो ख़ुदा मशविरा है…"
4 hours ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"सादर अभिवादन आदरणीय। उसने छोड़ा हमें अजनबी के लिए.. बहुत खूब आदरणीय।"
4 hours ago
DINESH KUMAR VISHWAKARMA replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"ग़म से लड़ना भी है हर ख़ुशी के लिए हौसला रख ज़रा ज़िंदगी के लिए । 1 नेकियाँ, चाहतें, हक़ बयानी,…"
4 hours ago
Zaif replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"212 212 212 212 ज़िंदगी खप गई ज़िंदगी के लिए हाथ मतले रहो अब ख़ुशी के लिए मैं अकेला ही कितनों से…"
4 hours ago
नाथ सोनांचली replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"हम किसी के लिए तुम किसी के लिएजीते  हैं दूसरों  की  ख़ुशी  के लिए बात ये भूलना…"
4 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"सादर अभिवादन"
4 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"212 212 212 212दीप जलता नहीं रौशनी के लिएवक्त अच्छा हुआ तीरगी के लिए।१।*लोग बेकल बहुत दुश्मनी के…"
4 hours ago
dandpani nahak replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"परम आदरणीय समर कबीर साहब प्रणाम!"
4 hours ago
Samar kabeer replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव तरही मुशायरा" अंक-151
"स्वागत है"
4 hours ago

© 2023   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service