For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

अतिथि की कलम से

Information

अतिथि की कलम से

"अतिथि की कलम से" समूह में ऐसे साहित्यकारों की रचनाओं को प्रकाशित किया जायेगा जो ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के सदस्य नहीं है किन्तु अपनी रचनाओं को ओ बी ओ पर प्रकाशित कराना चाहते है |

Location: OBO
Members: 22
Latest Activity: Jan 24

"अतिथि की कलम से" समूह के बारे में

"अतिथि की कलम से" समूह में ऐसे साहित्यकारों की रचनाओं को प्रकाशित किया जायेगा जो ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के सदस्य नहीं है किन्तु अपनी रचनाओं को ओ बी ओ पर प्रकाशित कराना चाहते है, ऐसे साहित्यकारों को हम अतिथि साहित्यकार कहेंगे, रचना प्रकाशन में ओ बी ओ के मूलभूत सिद्धान्तों का पालन किया जायेगा |

रचना ओ बी ओ पर प्रकाशन हेतु भेजते समय अतिथि साहित्यकार को एक घोषणा करनी होगी कि.....
"उपरोक्त/सलंग्न रचना मौलिक और अप्रकाशित है तथा इसका प्रकाशन अंतर्जाल पर ब्लागस्पाट सहित किसी भी वेब साईट पर नहीं किया गया है"

ओ बी ओ पर प्रकाशन उपरान्त अतिथि साहित्यकार कही भी अपनी रचना प्रकाशन हेतु स्वतंत्र होंगे | रचना हमारे इ मेल admin@openbooksonline.com पर भेजे, साथ में अपना नाम, संपर्क पता और फ़ोन नंबर भी लिखे, संभव हो तो एक छाया चित्र भी भेजे ( निश्चिन्त रहे, रचना के साथ आपका पूरा पता और फ़ोन नंबर प्रकाशित नहीं किया जायेगा )

केवल स्तरीय रचनाओं को ही प्रकाशित किया जायेगा | रचना की एक प्रति अपने पास भी सुरक्षित रखे, अस्वीकृत रचनाओं को लौटाई नहीं जाएगी, यदि भेजने के १० दिनों तक आपकी रचना प्रकाशित नहीं होती है या आपको इस सम्बन्ध में कोई सूचना नहीं मिलती है तो समझें कि रचना अस्वीकृत हो गई है |

Discussion Forum

This group does not have any discussions yet.

Comment Wall

Comment

You need to be a member of अतिथि की कलम से to add comments!


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on January 24, 2022 at 9:30pm

आदरणीय अमीरुद्दीन अमीर जी, शुभस्य शीघ्रम्. 

पहल करें. किसी अतिथि से सार्थक रचना प्राप्त कर रचना और लेखक को सम्मान दें. बस ग्रुप की गतिविधियों का श्रीगणेश हो गया. 

Comment by Ashok Kumar Raktale on January 24, 2022 at 9:28pm

आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' साहब, आपके विचारों से सहमत हूँ. किन्तु अक्सर हुआ ये है कि किसी अच्छे रचनाकार की रचना अतिथि रचनाकर के रूप में लेने से पूर्व,  प्रयास रहा है, उस रचनाकार को ही ओ बी ओ से जोड़ लें और इसमें लगातार सफलता भी मिलती रही है. इसकारण से समूह में सक्रियता नज़र नहीं आ रही है. यह तो आपातकालीन उपयोग के लिए है. इसकारण इसकी प्रासंगिकता बनी हुई है. सादर 

Comment by अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी on January 24, 2022 at 9:52am

जी, आदरणीय सौरभ पाण्डेय जी।

आदरणीय वरिष्ठ सदस्यगण अशोक रक्ताले जी और लक्ष्मण धामी मुसाफ़िर जी द्वारा कुछ घंटों पूर्व ही यह ग्रुप ज्वाइन करने के कारण और न्यून टिप्पणीयाँ एवं अतिथि रचना के अभाव के कारण ऐसा भ्रम हुआ कि ग्रुप नवीन है, फिर भी कहना होगा कि इस प्रकार के ग्रुप का विचार सराहनीय है, साथ ही प्रबंधन से निवेदन है कि इस ग्रुप के प्रसार लिए समुचित प्रयास और प्रचार के चरण चलाकर अतिथियों की नवीन रचनाओं को प्रकाशित कराने के प्रयास किए जाएं, अन्यथा इस ग्रुप की प्रासंगिकता समाप्त होने के कारण इसके औचित्य पर प्रश्नचिन्ह बना रहेगा जो ओ बी ओ की प्रतिष्ठा के विपरीत है। सादर। 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on January 24, 2022 at 12:04am

आदरणीय अमीरुद्दीन अमीर जी, यह ग्रुप ओबीओ के शैशवकाल से ही है. 

सो जितना पुराना ओबीओ उतना पुराना यह ग्रुप, अतिथि की कलम से !

Comment by अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी on January 23, 2022 at 11:45pm

क़ाबिल-ए-तारीफ़ कार-कर्दगी, इस नये ग्रुप की शुरुआत के लिए शुक्रिया और मुबारकबाद क़ुबूल फ़रमाएं ओ बी ओ प्रबंधन।

Comment by Abhinav Arun on November 22, 2011 at 10:02am

आभार एडमिन जी ! वैसे मैंने इस बात को सुझाव स्तम्भ में लिखना चाहा था लगता है  क्लिक  करने में गलती हो गयी

Comment by Admin on November 22, 2011 at 9:52am

आदरणीय अरुण जी !!

ध्यान दिलाने हेतु आभार, उक्त प्रोफाइल दो बार बनाया गया है, प्रबंधन स्तर से एक प्रोफाइल निलंबित कर दिया गया है |

Comment by Abhinav Arun on November 22, 2011 at 7:29am

सादर !! एडमिन जी !!

ओ बी ओ और " परिवर्तन " के सक्रिय और सशक्त शायर  जनाब मजहर शकूराबादी का नाम सदस्यों कि सूची में दो बार दिख रहा है कृपया एक नाम हटा दिया जाए | सदस्य अंशु जी ने भी इस और ध्यान दिलाया है |

Comment by Kailash C Sharma on September 17, 2011 at 2:42pm

बहुत सराहनीय प्रयास....आभार 

Comment by Abhinav Arun on September 16, 2011 at 1:57pm

बहुत ही अच्छी शुरुआत | ख़ास तौर से ऐसे साहित्यकार जो नेट पर अधिक सक्रिय नहीं हैं या अन्यत्र ब्लॉग आदि चलाते हैं उनके लिए और हम सबके लिए बहुत ही उपयोगी होगा | इसी स्थान पर पता दे दिया जाए तो और अच्छा होगा या प्रथम पृष्ठ का सन्दर्भ दे दिया जाए ताकि कुछ लोग यदि डाक से चाहे तो रचना भेज सकते हैं और प्रबंधन से फोन से बात कर सकते हैं |साथ ही इसका face बुक पर भी प्रचार प्रसार किया जा सकता है |

 बहुत बहुत शुभकामनाएं !!

 
 
 

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted blog posts
3 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post भोर सुख की निर्धनों ने पर कहीं देखी नहीं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'
"आ. भाई गुमनाम जी, सादर अभिवादन। गजल पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए आभार।"
13 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"//सुनहरे की मात्रा गणना 212 ही होगी ॥ शायद ॥ 122 नहीं  । // सु+नह+रा = 1 2 2 .. यगणात्मक शब्द…"
15 hours ago
gumnaam pithoragarhi commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post भोर सुख की निर्धनों ने पर कहीं देखी नहीं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'
"वाह अच्छा है मुसाफिर साहब ॥ वाह "
16 hours ago
gumnaam pithoragarhi commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"धन्यवाद दोस्तो ..   आपके सलाह सुझाव का स्वागत है । सुनहरे की मात्रा गणना 212 ही होगी ॥…"
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"आ. भाई गुमनाम जी , सादर अभिवादन। सुन्दर गजल हुई है। हार्दिक वधाई। हिन्दी में "वहम" बोले…"
18 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post कालिख दिलों के साथ में ठूँसी दिमाग में - लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"//कालिख दिलों के साथ में ठूँसी दिमाग में// यूँ पढ़े कालिख दिलों के साथ ही ठूँसी दिमाग में"
18 hours ago
Sushil Sarna posted a blog post

दोहा मुक्तक .....

दोहा  मुक्तक ........कड़- कड़ कड़के दामिनी, घन बरसे घनघोर ।    उत्पातों  के  दौर  में, साँस का …See More
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on gumnaam pithoragarhi's blog post गजल
"जनाब गुमनाम पिथौरागढ़ी जी आदाब, एक ग़ैर मानूस (अप्रचलित) बह्र पर ग़ज़ल का अच्छा प्रयास है बधाई…"
yesterday
अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी commented on अमीरुद्दीन 'अमीर' बाग़पतवी's blog post ग़ज़ल (जबसे तुमने मिलना-जुलना छोड़ दिया)
"जनाब गुमनाम पिथौरागढ़ी जी आदाब, ग़ज़ल पर आपकी आमद और ज़र्रा नवाज़ी का तह-ए-दिल से शुक्रिया।"
yesterday
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

भोर सुख की निर्धनों ने पर कहीं देखी नहीं -लक्ष्मण धामी "मुसाफिर'

२१२२/२१२२/२१२२/२१२*जब कोई दीवानगी  ही  आप ने पाली नहींजान लो ये जिन्दगी भी जिन्दगी सोची नहीं।।*पात…See More
yesterday
gumnaam pithoragarhi posted a blog post

गजल

212  212  212  22 इक वहम सी लगे वो भरी सी जेब साथ रहती मेरे अब फटी सी जेब ख्वाब देखे सदा सुनहरे दिन…See More
Monday

© 2022   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service