For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

"ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 (विषय: मर्यादा)

आदरणीय साथियो,
सादर नमन।
.
"ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62 में आप सभी का हार्दिक स्वागत है. प्रस्तुत है:
.
"ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-62
विषय: मर्यादा
अवधि : 30-05-2020 से 31-05-2020
.
अति आवश्यक सूचना :-
1. सदस्यगण आयोजन अवधि के दौरान अपनी एक लघुकथा पोस्ट कर सकते हैं।
2. रचनाकारों से निवेदन है कि अपनी रचना/ टिप्पणियाँ केवल देवनागरी फ़ॉन्ट में टाइप कर, लेफ्ट एलाइन, काले रंग एवं नॉन बोल्ड/नॉन इटेलिक टेक्स्ट में ही पोस्ट करें।
3. टिप्पणियाँ केवल "रनिंग टेक्स्ट" में ही लिखें, १०-१५ शब्द की टिप्पणी को ३-४ पंक्तियों में विभक्त न करें। ऐसा करने से आयोजन के पन्नों की संख्या अनावश्यक रूप में बढ़ जाती है तथा "पेज जम्पिंग" की समस्या आ जाती है।
4. एक-दो शब्द की चलताऊ टिप्पणी देने से गुरेज़ करें। ऐसी हल्की टिप्पणी मंच और रचनाकार का अपमान मानी जाती है।आयोजनों के वातावरण को टिप्पणियों के माध्यम से समरस बनाए रखना उचित है, किन्तु बातचीत में असंयमित तथ्य न आ पाएँ इसके प्रति टिप्पणीकारों से सकारात्मकता तथा संवेदनशीलता आपेक्षित है। गत कई आयोजनों में देखा गया कि कई साथी अपनी रचना पोस्ट करने के बाद ग़ायब हो जाते हैं, या केवल अपनी रचना के आसपास ही मँडराते रहते हैंI कुछेक साथी दूसरों की रचना पर टिप्पणी करना तो दूर वे अपनी रचना पर आई टिप्पणियों तक की पावती देने तक से गुरेज़ करते हैंI ऐसा रवैया क़तई ठीक नहींI यह रचनाकार के साथ-साथ टिप्पणीकर्ता का भी अपमान हैI
5. नियमों के विरुद्ध, विषय से भटकी हुई तथा अस्तरीय प्रस्तुति तथा ग़लत थ्रेड में पोस्ट हुई रचना/टिप्पणी को बिना कोई कारण बताए हटाया जा सकता है। यह अधिकार प्रबंधन-समिति के सदस्यों के पास सुरक्षित रहेगा, जिसपर कोई बहस नहीं की जाएगी.
6. रचना पोस्ट करते समय कोई भूमिका, अपना नाम, पता, फ़ोन नंबर, दिनांक अथवा किसी भी प्रकार के सिम्बल/स्माइली आदि लिखने /लगाने की आवश्यकता नहीं है।
7. प्रविष्टि के अंत में मंच के नियमानुसार "मौलिक व अप्रकाशित" अवश्य लिखें।
8. आयोजन से दौरान रचना में संशोधन हेतु कोई अनुरोध स्वीकार्य न होगा। रचनाओं का संकलन आने के बाद ही संशोधन हेतु अनुरोध करें।
.
यदि आप किसी कारणवश अभी तक ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार से नहीं जुड़ सके है तो www.openbooksonline.com पर जाकर प्रथम बार sign up कर लें.
.
.
मंच संचालक
योगराज प्रभाकर
(प्रधान संपादक)
ओपनबुक्स ऑनलाइन डॉट कॉम

Views: 1923

Replies are closed for this discussion.

Replies to This Discussion

आदरणीया बबिता जी, गोष्ठी की प्रथम प्रस्तुति हेतु आभार । एक बार लघुकथा की दृष्टि से विचार कीजिये, क्या कथा पूर्ण हो सकी, आपने एक  दृश्य उत्पन्न कर जैसे छोड़ दिया लेकिन conclude नहीं हो सका। 

सादर। 

शायद।आभार आपका ध्यानाकर्षण के लिए आदरणीय सरजी। 

आदरणीया बबिता जी, हार्दिक बधाई इस सामयिक कथा के लिए।

इस गोष्ठी में आपकी प्रथम प्रस्तुति के लिए हार्दिक बधाई। इस रचना से एक सजीव चित्रण उभर कर आ रहा है। आदरणीय योगराज प्रभाकर सर ने आपकी रचना को पुनः लिखकर चार-चाँद लगा दिए हैं। इस मार्मिक रचना के लिए आपको हार्दिक बधाई।

गरिमा
.
" मैं तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूँ , और सब की छोड़ मैं अम्मा तक को भुला सकता हूँ। "

रेवती ने हँसते हुए कहा, " अरे ! नौकरी मिले एक महीना भी नही हुआ हैं लगता हैं दिमाग चल गया हैं।"

गम्भीर होते हुए धीरज ने कहा, " नौकरी की ही प्रतीक्षा थी वरना कब का - - - -।"

" क्या बके जा रहे हो तुम , मेरी समझ से परे हैं आज तुम्हारी बातें "

" समझ मेरी बात , मैं तुझे प्यार करता हूँ और सारी दुनिया से टकराने के दम रखता हूँ। हमे कोई नही समझेगा , चल भाग चलते हैं। बाद में सब ठीक हो जाएगा।"

रेवती अपने पर ही विश्वास नही कर पा रही थी।दादी , चाची का उसके और धीरज के रिश्ते पर उंगली उठाना सही और मां का उन दोनों के प्रति अटूट विश्वास मिथ्या साबित हो गया था।वह अपने मे ही गुम होती जा रही थी की :

" अरे ! गूंगी क्यों हुई जा रही हैं ? ऐसा करते हैं कल बाहर कहीं मिल लेते हैं और सब प्लान कर लेते हैं।" कहते हुए हाथ गालों से फिसलते हुए कंधों से पीठ तक पहुँच गए।

अब तक वह सारी हकीकत समझ चुकी थी।शरीर पर रेंगते हुए हाथ को झटकते हुए अपना निर्णय एक झटके में सुना दिया , " स्नेहिल पवित्र रिश्ते की आड़ में भले ही मेरे शरीर पर तुम कीड़े की तरह रेंग लिए लेकिन दांत नही गड़ाने दूंगी। आज के बाद रिश्तों की गरिमा बरकरार रख पाये तब ही इस देहरी पर आइयेगा। "

मौलिक एवं अप्रकाशित

सीख और सबक सिखाती विषयांतर्गत सुन्दर रचना।बहुत-बहुत बधाई, दी।

आपका हार्दिक धन्यवाद आ. बबिता गुप्ता जी 

आपकी रचना की पंक्चुएशन थोड़ी दुरुस्त की है आ० अर्चना त्रिपाठी जी, बताइएगा सम्प्रेषण कुछ बेहतर हुआ कि नहीं.

गरिमा
.
“मैं तुम्हारे लिए कुछ भी कर सकता हूँ, और सबकी छोड़ मैं अम्माँ तक को भुला सकता हूँ।”
रेवती ने हँसते हुए कहा, “अरे! नौकरी मिले एक महीना भी नहीं हुआ हैं लगता हैं दिमाग़ चल गया हैं।”
गंभीर होते हुए धीरज ने कहा,

“नौकरी की ही प्रतीक्षा थी वरना कब का----।”
“क्या बके जा रहे हो तुम, मेरी समझ से परे हैं आज तुम्हारी बातें”
“समझ मेरी बात, मैं तुझे प्यार करता हूँ और सारी दुनिया से टकराने के दम रखता हूँ। हमें कोई नहीं समझेगा, चल भाग चलते हैं। बाद में सब ठीक हो जाएगा।”
रेवती अपने पर ही विश्वास नहीं कर पा रही थी। दादी, चाची का उसके और धीरज के रिश्ते पर उँगली उठाना सही और माँ का उन दोनों के प्रति अटूट विश्वास मिथ्या साबित हो गया था। वह अपने में ही गुम होती जा रही थी की :
“अरे! गूँगी क्यों हुई जा रही हैं? ऐसा करते हैं कल बाहर कहीं मिल लेते हैं और सब प्लान कर लेते हैं।” कहते हुए हाथ गालों से फिसलते हुए कंधों से पीठ तक पहुँच गए।
अब तक वह सारी हक़ीक़त समझ चुकी थी। शरीर पर रेंगते हुए हाथ को झटकते हुए अपना निर्णय एक झटके में सुना दिया, “स्नेहिल पवित्र रिश्ते की आड़ में भले ही मेरे शरीर पर तुम कीड़े की तरह रेंग लिए लेकिन दाँत नहीं गड़ाने दूँगी। आज के बाद रिश्तों की गरिमा बरक़रार रख पाए तब ही इस देहरी पर आइयेगा।”
मौलिक एवं अप्रकाशित

आदाब। बहुत ख़ूब आदरणीय सर जी। बहुत-बहुत शुक्रिया हमें भी मार्गदर्शन प्रदान करने हेतु।

क्षमा चाहती हूं आ. सर। पढ़ तो कल ही लिया था परंतु जवाब नही दे पाई थी।इतने उम्दा मार्गदर्शन के लिए आपका हार्दिक धन्यवाद ।यह हमारी ऐसी त्रुटियां हैं जिसे हम चाहकर भी ठीक नही कर पा रहे हैं। आगे कोशिश रहेगी।

आदरणीय सर 

इस लघुकथा में सम्प्रेषण तो आ गया है परंतु इस रचना में कहीं 'तुम' और कहीं तुझे' का प्रयोग हो रहा है। क्या इस तरह से लिखना सही होता है ? 

सादर।

   आदरनीया अर्चना जी, इस सोच में उलझे जा रहा हूँ , ये रिश्ते सच में मिथ्या हैं, या जिस आधार पे हैं वो आधार ही  अब बिखर रहा है , लघुकथा के लिए बधाई हो 

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

सतविन्द्र कुमार राणा commented on सतविन्द्र कुमार राणा's blog post बिना बात की बात
"आदरणीय धामी जी सादर नमन सह आभारं"
5 hours ago
विनय कुमार commented on विनय कुमार's blog post हम क्यों जीते हैं--कविता
"इस प्रतिक्रिया के लिए बहुत बहुत आभार आ Aazi Tamaam साहब"
8 hours ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' posted a blog post

शारदी छंद "चले चलो पथिक"

(शारदी छंद)चले चलो पथिक।बिना थके रथिक।।थमे नहीं चरण।भले हुवे मरण।।सुहावना सफर।लुभावनी डगर।।बढ़ा…See More
8 hours ago
बासुदेव अग्रवाल 'नमन' added a discussion to the group धार्मिक साहित्य
Thumbnail

रक्ता छंद "शारदा वंदन"

(रक्ता छंद)ब्रह्म लोक वासिनी।दिव्य आभ भासिनी।।वेद वीण धारिणी।हंस पे विहारिणी।।शुभ्र वस्त्र…See More
8 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' posted a blog post

हवा भी दिलजली होगी-लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर'

१२२२/१२२२ जहाँ पर रोशनी होगी वहीं पर तीरगी होगी।१। * गले तो  मौत  के लग लें खफ़ा पर जिन्दगी…See More
16 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on बृजेश कुमार 'ब्रज''s blog post ग़ज़ल-आख़िर
"आ. भाई ब्रिजेश जी, अभिवादन। बहुत खूबसूरत गजल हुई है । हार्दिक बधाई।"
yesterday
बृजेश कुमार 'ब्रज' posted a blog post

ग़ज़ल-आख़िर

1222     1222     1222      1222छुड़ाया  चाँद ने  दामन अँधेरी  रात में  आख़िरपरेशां  हूँ कमी  क्या है…See More
yesterday
Ram Ashery posted a blog post

हम होगें कामयाब

आज अपने मकसद को पाने में हम होगें कामयाब मन में रख विश्वास, महामारी से जंग जीत जायेगें कुदरत के…See More
yesterday
Chetan Prakash replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-127
" जी, प्रतिभा जी, आपने सही  कहा ! विषय को दृष्टिगत रखते हुए अच्छा  प्रयास  है…"
Sunday
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-127
"इस सकारात्मक गीत सृजन पर हार्दिक बधाई आदरणीय चेतन प्रकाश जी"
Sunday
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-127
"आदरणीय चेतन प्रकाश जी   ये एक छंदमुक्त/ अतुकान्त रचना है। सादर"
Sunday
pratibha pande replied to Admin's discussion "ओ बी ओ लाइव महा उत्सव" अंक-127
"हार्दिक आभार आदरणीय भाई लक्ष्मण धामी जी"
Sunday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service