All Videos Tagged arun (Open Books Online) - Open Books Online 2020-07-03T18:00:07Z http://openbooks.ning.com/video/video/listTagged?tag=arun&rss=yes&xn_auth=no ABHINAV ARUN @ GHAZAL KUMBH 2016 tag:openbooks.ning.com,2016-02-11:5170231:Video:739435 2016-02-11T08:20:31.473Z Abhinav Arun http://openbooks.ning.com/profile/ArunKumarPandeyAbhinav <a href="http://openbooks.ning.com/video/abhinav-arun-ghazal-kumbh-2016"><br /> <img alt="Thumbnail" height="180" src="http://storage.ning.com/topology/rest/1.0/file/get/2974028181?profile=original&amp;width=240&amp;height=180" width="240"></img><br /> </a> <br></br>""ग़ज़ल कुम्भ २०१६ आयोजित<br></br> --------------------------------------------------<br></br> <br></br> अंजुमन फ़रोग़-ए-उर्दू के तत्वावधान में वरिष्ठ ग़ज़लकार श्री दीक्षित दनकौरी की अगुआई में 09 जनवरी 2016 को अखिल भारतीय ग़ज़ल गोष्ठी 'ग़ज़ल-कुम्भ' का सफल एवं यादगार आयोजन, ईस्ट एण्ड क्लब, शाहदरा, दिल्ली मे किया गया ।<br></br> राष्ट्रीय स्तर आयोजित 'ग़ज़ल-कुम्भ' 9 जनवरी 2016 को दोपहर 2 बजे से… <a href="http://openbooks.ning.com/video/abhinav-arun-ghazal-kumbh-2016"><br /> <img src="http://storage.ning.com/topology/rest/1.0/file/get/2974028181?profile=original&amp;width=240&amp;height=180" width="240" height="180" alt="Thumbnail" /><br /> </a><br />""ग़ज़ल कुम्भ २०१६ आयोजित<br /> --------------------------------------------------<br /> <br /> अंजुमन फ़रोग़-ए-उर्दू के तत्वावधान में वरिष्ठ ग़ज़लकार श्री दीक्षित दनकौरी की अगुआई में 09 जनवरी 2016 को अखिल भारतीय ग़ज़ल गोष्ठी 'ग़ज़ल-कुम्भ' का सफल एवं यादगार आयोजन, ईस्ट एण्ड क्लब, शाहदरा, दिल्ली मे किया गया ।<br /> राष्ट्रीय स्तर आयोजित 'ग़ज़ल-कुम्भ' 9 जनवरी 2016 को दोपहर 2 बजे से आरम्भ होकर,<br /> 10 जनवरी 2016 को सुबह 7 बजे तक चला | इसमें ग़ज़लों की अनवरत धारा बहती रही और उपस्थित ग़ज़लगो इसमें सराबोर होते रहे | ग़ज़ल कुम्भ में देश के विभिन्न हिस्सों से आये करीब दो सौ शायरों और शायरात ने अपनी उपस्थिति दर्ज़ कराई ।<br /> प्रति वर्ष आयोजित होने वाले चर्चित ग़ज़ल कुम्भ में इस वर्ष दो सत्र हुए ग़ज़ल-कुम्भ के प्रथम सत्र की अध्यक्षता, वरिष्ठ एवं प्रसिद्ध शायर, श्री सीमाब सुलतानपुरी ने की । बदायूँ से पधारे बुज़ुर्ग शायर श्री फ़हमी बदायूँनी इस सत्र के मुख्य अतिथि थे | चर्चित समकालीन शायर श्री कृष्ण कुमार नाज़ के संचालन मे ग़ज़ल-कुम्भ का प्रथम सत्र, दोपहर 2 बजे से आरम्भ होकर शाम 7 बजे तक चला । रात साढ़े आठ बजे ग़ज़ल-कुम्भ का दूसरा सत्र आरम्भ हुआ । वरिष्ठ कवि पदमभूषण श्री गोपालदास नीरज के सान्निध्य, और अन्तर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त वरिष्ठ शायर पदमश्री जनाब बेकल उत्साही की अध्यक्षता मे सम्पन्न हुए इस द्वितीय-सत्र का अत्यन्त कुशल संचालन प्रख्यात ग़ज़लकार श्री दीक्षित दनकौरी ने किया । इस अवसर पर नेपाल के प्रसिद्ध कवि श्री बसन्त कुमार चौधरी के काव्य-संग्रह 'आँसुओं की सियाही से' का लोकार्पण भी हुआ नेपाली कवि श्री बसंत चौधरी का यह पहला हिंदी काव्य संग्रह है | इसके उपरान्त ग़ज़ल-कुम्भ के द्वितीय-सत्र का रात 9 बजे से आरम्भ हुआ | ग़ज़ल पाठ का क्रम सुबह 7 बजे तक चलता रहा | ग़ज़ल कुम्भ में उपस्थित शायरों व शायरात में लक्ष्मी शंकर बाजपेयी , अशोक अंजुम , नीना शहर , मधु गुप्ता , नीलम मेंदिरात्ता , गीतिका वेदिका ,सन्दीप शजर, सन्तोष सिंह, ब्रजेश तरुवर, राशिद गुनावी ,जितेन्द्र राजपुरोहित, अभिनव अरुण , गोविन्द गुलशन ,मधुप मोहता , पुष्पेन्द्र पुष्प ,वैद्यनाथ सारथी , अनुराग गैर , राजेन्द्र कलकल ,चांदनी पाण्डेय , चाँद मुहम्मद आखिर ,तालिब तूफानी और मुनीश तनहा के नाम उल्लेखनीय हैं ।<br /> <br /> - अभिनव अरुण , बनारस (उ.प्र.) | VARANASI -MY CITY MY ANTHEM_वाराणसी - मेरा शहर मेरा गीत tag:openbooks.ning.com,2014-02-15:5170231:Video:512250 2014-02-15T01:23:21.046Z Abhinav Arun http://openbooks.ning.com/profile/ArunKumarPandeyAbhinav <a href="http://openbooks.ning.com/video/varanasi-my-city-my-anthem"><br /> <img alt="Thumbnail" height="180" src="http://storage.ning.com/topology/rest/1.0/file/get/2974028355?profile=original&amp;width=240&amp;height=180" width="240"></img><br /> </a> <br></br>सुनिए मेरे पुत्र नीलाभ उत्कर्ष द्वारा रचित , आनंद मिलिंद के संगीत निर्देशन में जावेद अली का गाया ‘’मेरा शहर मेरा गीत’’ .... जियो बनारस !!<br></br> ‘’ रईसों मलंगों की बस्ती बनारस<br></br> कई घाट गंगा गुज़रती बनारस ,<br></br> नहीं आपाधापी नहीं भागादौड़ी<br></br> यहाँ अल सुबह रोज़ छनती कचौड़ी<br></br> अजब सी है मस्ती यहाँ की ठहर में<br></br> ग़ज़ल अपनी काशी मुकम्मल बहर में ’’<br></br> - नीलाभ उत्कर्ष…<br></br> <a href="http://openbooks.ning.com/video/varanasi-my-city-my-anthem"><br /> <img src="http://storage.ning.com/topology/rest/1.0/file/get/2974028355?profile=original&amp;width=240&amp;height=180" width="240" height="180" alt="Thumbnail" /><br /> </a><br />सुनिए मेरे पुत्र नीलाभ उत्कर्ष द्वारा रचित , आनंद मिलिंद के संगीत निर्देशन में जावेद अली का गाया ‘’मेरा शहर मेरा गीत’’ .... जियो बनारस !!<br /> ‘’ रईसों मलंगों की बस्ती बनारस<br /> कई घाट गंगा गुज़रती बनारस ,<br /> नहीं आपाधापी नहीं भागादौड़ी<br /> यहाँ अल सुबह रोज़ छनती कचौड़ी<br /> अजब सी है मस्ती यहाँ की ठहर में<br /> ग़ज़ल अपनी काशी मुकम्मल बहर में ’’<br /> - नीलाभ उत्कर्ष<br /> <br /> MUSIC-ANAND MILIND SINGER- JAVED ALI LYRICS- NEELABH UTKARSH