For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

अभिमन्यु की प्रेयसी:- मोहित मुक्त

गतांक से आगे

बैठी हुइ निज कक्ष में कुशुमाभूषणों से सजी।
अनभिज्ञ होनी के लेख से अभिमन्यु की प्रेयसी।
अभी-अभी कर गयी है दासी दिब्य श्रृंगार।
चूड़ामणि, कानो में कुण्डल, गले में पुष्पाहार।

स्वर्णाभूषणों से प्रखर हो चमक रहा है मस्तक।
बालपन की चौखट पर दे गया यौवन दस्तक।
अभी-अभी तो बंधी है प्रणय की रश्मि बंधों से।
नया-नया परिचय हुआ है शाश्वत प्रेम संबंधों से।

अभी तो हाथों से नहीं उतरी सुहाग की लाली।
अब तक महक रही है वो सेज फूलों वाली।
अभी-अभी तो हुई है क्वाँरी से वो भामिनी।
प्रेमरस से पगी अभिमन्यु हृदय-निवासिनी।

जी भरकर ना हो पायीं थी अब-तक प्रेम की बातें।
गिने-चुने दिन प्यारे के संग, गिनी-चुनी थी रातें।
अभी तो उर में संचय थी कितनी सारी अभिलाषा।
अभी तो मन का भौरां था प्रेम-मिलन रस प्यासा।

अभी-अभी साँसों में घुली थी यौवन की मिठास।
हृदय-वृंत पर था छाया नया-नया मधुमास।
दृग प्रियतम के दर्शन से तृप्त नहीं थे हो पाए।
कुछ दिन हीं तो बीते थे अभिमन्यु से ब्याह रचाये।

और विधाता की श्रेष्ठ कृति थी उत्तरा के रूप में।
ज्यों प्रकृति सुन्दरता समेटे बैठी हो स्वरुप में।
नीली-नीली आँखों में जैसे सागर लहराता हो।
या ले अंगड़ाई पलकों में नीला अम्बर अलसता हो।

मानों उषा का रक्तिम सूरज अधरों पर उतर सा आया है।
या गुलाब का लाल वर्ण होठों पर मचल के छाया है।
गाल मुलायम मक्खन से या खिले-खिले नव फूल से।
निर्मल शरतचंद्र सा या, पावन नदियों के मूल से।

अञ्जन लगे इन नयनों के कोर ऐसे काले हैं।
मानों अमावस की रातों में बादल बरसने वाले हैं।
और कृष्णवर्ण ये केश घने लम्बे-लम्बे प्यारे-प्यारे।
जैसे कोई श्यामल नागिन क्रोधवंत होकर फुँफकारे।

मनो कपोलों पर खिली हो बालसूर्य की आभा।
दंतों की उज्ज्वलता में मानस हंस हो जागा।
सच्चरित्र के धवल प्रकाश से चमक रहा मुखमण्डल।
अम्बर के तारे नक्षत्र सब बने हैं कानो के कुण्डल।

अधरों पे मुस्कानों से ज्यों अमृत का निर्झर फूटा है।
खिलखिलाहट में सरगम पे कोई राग सा छूटा है।
मन को शीतल करने वाली आवाज बहुत हीं प्यारी है।
कोमल ऐसी जैसे की फूल भी उसपे भारी है।

मौलिक और अप्रकाशित


Views: 64

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Mohit mishra (mukt) on August 30, 2017 at 10:48am

आदरणीय  डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव जी आपके मार्गदर्शन का बहुत बहुत धन्यवाद। आपकी बातों का ख्याल रहेगा। 

सिखने का क्रम चल रहा है तो गलतियाँ हो हीं जाती हैं। नमस्कार 

Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on August 25, 2017 at 7:59pm

आ० मोहित जी . लगता है आप किसी खंड काव्य के लेखन में प्रवृत्त हैं . किन्तु इसके लिए केवल तुकबंदी  से काम नहीं चलेगा . आपको एक या एकाधिक छंद में रचना करनी होगी और उसके नियमों में बंधना पडेगा मैं आपका एक छंद  ले रहा हूँ =

मनो कपोलों पर खिली हो बालसूर्य की आभा।
दंतों की उज्ज्वलता में मानस हंस हो जागा।
प्रथम पंक्ति में दो चरण हैं=   मनो कपोलों पर खिली हो----एक   मात्रा 15

                      बालसूर्य की आभा।       -  दो    मात्रा 12
यहाँ चर्नांत २२ है अतः यह सार छंद के करीब है .सार में मात्रा (१६,१२) होती है , इस लिहाज से पहली पंक्ति यूँ होगी-        खिली कपोलों पर मानो हो बाल सूर्य की आभा ---अब आगे आभा और जागा में तुक नहीं है . इसके लिए आपको सावधान रहना होगा . आभा का एक तुक  है द्वाभा तो दूसरी पंक्ति यूँ हो सकती है – दांतों में मिस्सी से जैसे फूट रही हो द्वाभा   

मान्यवर सभी छंदों पर व्याख्या देना संभव नहीं है पर यदि आप सचमुच गंभीर है तो छंद की गरिमा से बंधना होगा अन्यथा आपका श्रम सार्थक होने में संदेह हो सकता है .शुभ शुभ

Comment by Mohit mishra (mukt) on August 22, 2017 at 2:56pm
आगे से ऐसी लम्बी रचना नहीं डालूंगा। आपके सुझाव हमेशा से मार्गदर्शक रहे हैं।आशा है आगे भी रहेंगे। सादर
Comment by Samar kabeer on August 21, 2017 at 11:15pm
जनाब मोहित जी आदाब,रचना बहुत लम्बी हो गईं है जिसकी वजह से पाठक की रुची कम हो जाती है ।
इस रचना पर बधाई स्वीकार करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

Sheikh Shahzad Usmani commented on Dr. Vijai Shanker's blog post उपलब्धियाँ - डॉo विजय शंकर
"शीर्षक सुझाव : //कृत्रिम उपलब्धियां//"
17 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Chandresh Kumar Chhatlani's blog post पराजित हिन्द (लघुकथा)
"हालांकि प्रथम पात्र /जी हुजूर/, /जी-जी हुजूर/कहता हुआ आदरपूर्वक खड़े हुए ही बात कर रहा है, फिर भी…"
20 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Dr. Vijai Shanker's blog post उपलब्धियाँ - डॉo विजय शंकर
"बेहतरीन व्यंग्यात्मक सृजन। हार्दिक बधाई आदरणीय डॉ. विजय शंकर जी।"
24 minutes ago
Dr. Vijai Shanker commented on Dr. Vijai Shanker's blog post सत्यमेव् जयते - डॉo विजय शंकर
"आभार , आदरणीय लक्ष्मण धामी जी , सादर।"
25 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani commented on Chandresh Kumar Chhatlani's blog post पराजित हिन्द (लघुकथा)
"वाह। शीर्षक और उस गरिमामय अभिवादन/नारे 'जय हिन्द' के साथ आज के सत्य को पिरोकर बेहतरीन…"
46 minutes ago
Kalipad Prasad Mandal commented on Kalipad Prasad Mandal's blog post ग़ज़ल -कहीं वही तो’ नहीं वो बशर दिल-ओ-दिलदार
"सादर आभार आ सलीम जी "
1 hour ago
SALIM RAZA REWA commented on dr neelam mahendra's blog post क्यों न दिवाली कुछ ऐसे मनायें
"आ. नीलम जी, ख़ूबसूरत लेख के लिए बधाई."
1 hour ago
Dr. Vijai Shanker posted a blog post

उपलब्धियाँ - डॉo विजय शंकर

उप-शीर्षक -आर्टिफिशयल इंटेलिजेंस से आर्टिफिशल हँसी तक।प्रकृति ,अनजान ,पाषाण ,ज्ञानविज्ञान ,गूगल…See More
1 hour ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post सवालों का पंछी सताता बहुत है-गीत
"आदरणीय लक्ष्मण सर बहुत बहुत आभार"
1 hour ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post सवालों का पंछी सताता बहुत है-गीत
"आदरणीय बाऊजी आपने सही ध्यान धराया है, सादर प्रणाम"
1 hour ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post तब सिवा परमेश्वर के औ'र जला है कौन-----गज़ल, पंकज मिश्र
"आदरणीय आशुतोष सर सादर आभार"
1 hour ago
Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan" commented on Pankaj Kumar Mishra "Vatsyayan"'s blog post तब सिवा परमेश्वर के औ'र जला है कौन-----गज़ल, पंकज मिश्र
"आदरणीय लक्ष्मण सर बहुत आभार"
1 hour ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service