For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

ऑक्सीजन (लघुकथा ) -सुनील वर्मा

रविवार का दिन था| अखबार पढ़ने के बाद कमलेश जी बरामदे में बैठे रेडियो पर गानें सुन रहे थे| एकाएक उनके कानों में इकतारे की धुन के साथ साथ लोक संगीत के बोल घुल गये|
आँखे खोलकर उन्होने आवाज की दिशा में देखा| दरवाजे पर खड़ा एक बूढ़ा याचक कुछ गाते हुए इकतारा बजा रहा था| वह दरवाजे तक गये और उसे वहीं बाहर बने चबूतरे पर बैठने के लिए कहा|
"बहुत अच्छा गाते हो| कहाँ से हो?" उसके बैठते ही उन्होनें सवाल किया|
"बहुत दूर से हैं बाबूजी| हमारे पुरखे अपने जमाने के बहुत बड़े लोक कलाकार थे| बस उनसे ही थोड़ा बहुत सीख लिया|" बूढ़े ने इज्जत मिलते ही अपना परिचय दिया|
"तो यहाँ शहर में कैसे..?" कमलेश जी ने अगला प्रश्न किया|
"अब इस कला की कहाँ कोई कद्र है बाबूजी ? गाँव में पेट भरना मुश्किल हो गया और कोई दूसरा काम हमें आता नही इसलिए यहाँ शहर में इसके सहारे माँगकर गुजारा कर लेते हैं|" बूढ़े ने माथे का पसीना पूछा|
"तो सुना दो कुछ..." कहते हुए कमलेश जी भी वहीं चबूतरे पर बैठ गये|
बूढ़े ने पहले तो हैरानी से देखा फिर आश्वस्त होने पर संगीत शुरू किया| उसे गाते देख उसके आसपास और लोग भी जुड़ने लगे| अपनी आँखें मूंदकर वह लगभग आधे घंटे तक अपने इकतारे के साथ लोक धुनें बिखेरता रहा| समाप्ति पर आँखे खोली तो आसपास तालियों की गड़गड़ाहट गूँज उठी| कमलेश जी ने जेब से निकालकर उसे पचास का नोट देना चाहा|
बूढ़े ने हाथ जोड़कर मना करते हुए कहा 'बाबूजी, आया तो पैसों की आस में ही था मगर अब पैसे नही लूँगा|'
"अररे मगर...तुम पैसों के लिए ही तो यह बजाते हो|"
बूढ़े की आखों में आँसू आ गये| इकतारे को माथे से लगाते हुए वह रूँधे गले से इतना ही कह पाया "ज्यादा नही तो कम..पैसे तो रोज मिल ही जाते हैं| मगर आज एक कलाकार को उसका सम्मान मिला है बाबूजी.."
कमलेश जी ने नोट उसके कुर्ते की जेब में रखते हुए कहा "रख लो काम आयेगें...और हाँ, अगले रविवार को भी जरूर आना.."
बूढ़े की आँखे बता रही थी कि सम्मान का ऑक्सीजन मिलते ही उसकी मरती हुई कला उसमें दोबारा जीवित हो रही थी|

मौलिक एवं अप्रकाशित 

Views: 102

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online


सदस्य कार्यकारिणी
Comment by rajesh kumari on July 16, 2017 at 9:26pm

बहुत शानदार लघु कथा लिखी है आद० सुनील जी बहुत बहुत बधाई आपको .

Comment by Hari Prakash Dubey on July 16, 2017 at 6:35pm

सुन्दर प्रस्तुति सुनील जी, बधाई प्रेषित ! सादर 

Comment by KALPANA BHATT on July 16, 2017 at 4:01pm

हमेशा की तरह एक बेहतरीन लघुकथा हुई है आदरणीय सुनील भैया | हार्दिक बधाई आपको| बहुत अच्छा लग रहा है आप को पढ़कर |

Comment by Ravi Prabhakar on July 13, 2017 at 9:25pm

भाई सुनीज जी, लघुकथा में निहित सूक्ष्‍म तथ्‍य जिस प्रखरता से उभर कर सामने आया हे वह प्रशंसनीय है । लघुकथा का शीर्षक व शिल्‍प भी बहुत प्रभावित करता है । शुभकामनाएं

Comment by Sunil Verma on July 12, 2017 at 8:53pm

निवेदन नहीं आदरणीय आप तो आदेश देने का हक़ भी रखते हैं।
दरअसल मैं सिर्फ 'लघुकथा' ही लिखता हूँ, अन्य विधाओं में मेरी जानकारी शून्य है। माह के अंत में होने वाली लघुकथा गोष्ठी में पिछले एक साल से लगातार उपस्थित होता रहा हूँ। इस बार समय पर अपनी लघुकथा तैयार न हो पाने के कारण कथा तो पोस्ट नहीं कर पाया फिर भी मैंने अपनी गोष्ठी में आने वाली कथाओं पर अपनी टिप्पणियाँ रखी थी। मैं पूरी कोशिश करूँगा की अगली बार आपको कोई शिकायत का मौका न दूँ
आदरणीय महेंद्र कुमार जी, त्रुटि की तरफ ध्यान दिलाने के लिए बहुत बहुत आभार। हालाँकि मेरा ध्यान इस और गया भी, मगर तब तक कथा मंच द्वारा स्वीकृत हो चुकी थी। आपसे इसी स्नेह की उम्मीद है.. कृपया बनाये रखियेगा

Comment by Mahendra Kumar on July 12, 2017 at 8:33pm

आ. सुनील जी, बहुत बढ़िया लघुकथा लिखी है आपने. निश्चित ही सम्मान रुपी ऑक्सीजन की ज़रूरत हर कलाकार को होती है. इस ऑक्सीजन की ज़रूरत इस मंच पर हम जैसे नए रचनाकारों को भी है. उम्मीद है आप अपनी सक्रियता बनाये रखेंगे. इस लघुकथा के लिए ढेर सारी बधाई स्वीकार कीजिए. कुछ टंकण त्रुटियाँ हैं, उन्हें देख लीजिएगा जैसे, //बूढ़े ने माथे का पसीना पूछा|// "पोछा" सादर.

Comment by Samar kabeer on July 11, 2017 at 10:40pm
जनाब सुनील वर्मा जी आदाब,बढ़िया लघुकथा लिखी आपने,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।
एक निवेदन ये है कि कृपया मंच पर अपनी सक्रियता बनाये रखें ,ये हमारी ज़िम्मेदारी है ।
Comment by Nita Kasar on July 11, 2017 at 9:25pm
कला रे क़द्रदान मिल ही जाते है,सार्थक कथा के लिये बधाई आद० सुनील वर्मा जी ।
Comment by डॉ गोपाल नारायन श्रीवास्तव on July 11, 2017 at 8:49pm

बढ़िया सुनील जी

और हाँ, अगले रविवार को भी जरूर आना.."-----क्या यह आवश्यक था . कथानक की पृष्ठिभूमि में कला को रोजरोज तो आदर मिलने से रहा . सादर

Comment by Dr Ashutosh Mishra on July 11, 2017 at 3:51pm
काबिले तारीफ़ रचना हार्दिक बधाई भाई सुनील जी

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

laxman dhami commented on vijay nikore's blog post झंझावात
"आ. भाई विजय जी इस भावपूर्ण कविता के लिए हार्दिक बधाई ।"
6 hours ago
laxman dhami commented on Samar kabeer's blog post 'महब्बत कर किसी के संग हो जा'
"आ. भाई समर जी इस बोलती गजल के लिए बहुत बहुत बधाई ।"
6 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on laxman dhami's blog post कभी गम के दौर में भी हुई आखें नम नहीं पर- लक्ष्मण धामी ‘मुसाफिर’
"बहुत ही अच्छी ग़ज़ल लगी आदरणीय..सादर"
7 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post एक अतुकांत कविता मनोज अहसास
"आदरणीय मनोज जी बहुत ही खूबसूरत मर्मस्पर्शी अहसास पिरोये हैं अपने..बधाई"
8 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on Sheikh Shahzad Usmani's blog post दुनिया के मर्ज़ (लघुकथा) /शेख़ शहज़ाद उस्मानी
"वाह बहुत सही विश्लेषण किया है हार्दिक बधाई आदरणीय..आजकल बच्चों को माँ बाप और डा. पालते हैं..दादी…"
8 hours ago
बृजेश कुमार 'ब्रज' commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post यहाँ हुजूर - ग़ज़ल- बसंत कुमार शर्मा
"बेहतरीन ग़ज़ल हुई आदरणीय..हार्दिक बधाई"
8 hours ago
laxman dhami commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post लगती रही फिर भी भली
"बहुत सुंदर गीत हुआ है भाई बसंत जी हार्दिक बधाई ।"
8 hours ago
laxman dhami commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post यहाँ हुजूर - ग़ज़ल- बसंत कुमार शर्मा
"बहुत सुंदर गजल हुई है हार्दिक बधाई ।"
8 hours ago
laxman dhami commented on laxman dhami's blog post कभी गम के दौर में भी हुई आखें नम नहीं पर- लक्ष्मण धामी ‘मुसाफिर’
"आ.भाई समर जी अभिवादन । गजल की प्रशंसा,स्नेह और मार्गदर्शन के लिए हार्दिक धन्यवाद ।"
8 hours ago
Profile IconGarima and Shashank Sharma joined Open Books Online
8 hours ago
Mohammed Arif posted a blog post

लघुकथा-कुत्ता संस्कृति

मॉर्निंग वॉक के दो मित्र कुत्ते आपस में बतिया रहे थे । उन्हें अपने कुत्तेपन पर बड़ा अभिमान हो रहा था…See More
8 hours ago
laxman dhami commented on laxman dhami's blog post कभी गम के दौर में भी हुई आखें नम नहीं पर- लक्ष्मण धामी ‘मुसाफिर’
"आ. भाई रवि जी गजल पर उपस्थिति और स्नेह के लिए आभार । आपकी दुविधा और मेरी विकट भूल का समाधान आ.भाई…"
8 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service