For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

दुश्मनी से डर कैसा दोस्ती से डरते हैं

दुश्मनी से डर कैसा दोस्ती से डरते हैं..
खाये हैं फ़रेब इतने हर ख़ुशी से डरते हैं..

जब से आशियाँ अपना जल गया गुलिस्ताँ में..
हो कहीं उजाला हम रौशनी से डरते हैं..

हम तो धूप के राही साथ-साथ सूरज है..
जिस्म जिनके नाज़ुक हैं चाँदनी से डरते हैं..

कुछ न कुछ तो होगा ही इसलिए जहां वाले..
आदमी की सूरत में आदमी से डरते हैं..

मौसम-ए-बहारां में दिल है मुतमइन लेकिन..
हम ग़मों के मौसम की वापसी से डरते हैं..

उँगलियाँ न उठ जायें तार तार दामन पर..
शायद इस लिए "गुलशन" बेख़ुदी से डरते हैं..

Views: 226

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by Albela Khatri on June 14, 2012 at 1:22pm


जनाब अशफ़ाक अली ( गुलशन खैराबादी)  साहेब,
बहुत ख़ूब.........

जब से आशियाँ अपना जल गया गुलिस्ताँ में..
हो कहीं उजाला हम रौशनी से डरते हैं..

हम तो धूप के राही साथ-साथ सूरज है..
जिस्म जिनके नाज़ुक हैं चाँदनी से डरते हैं..

__गज़ब के अशआर...बधाई ! 

Comment by Bishwajit yadav on June 13, 2012 at 2:35pm
प्रणाम गुलशन जी
दुश्मनी से डर कैसा दोस्ती से डरते हैं..
खाये हैं फ़रेब इतने हर ख़ुशी से डरते है
बहुत बेजोड क्या बात है
"टच माई दिल"
Comment by yogesh shivhare on June 12, 2012 at 6:37pm

कुछ न कुछ तो होगा ही इसलिए जहां वाले..
आदमी की सूरत में आदमी से डरते हैं..

 

बहुत खूब लिखा है जनाब ..आपने हकीकत को क्या खूब पेश की है

Comment by SHARIF AHMED QADRI "HASRAT" on June 12, 2012 at 4:20pm

janab mohtram ashfaq saaheb is khoobsoorat ustadaana kalam ke liye dil se mubarakbaad pesh karta hoon kubool kijiye

Comment by PRADEEP KUMAR SINGH KUSHWAHA on June 12, 2012 at 3:02pm

आदरणीय गुलशन जी , सादर 

बहुत सुन्दर भावों से सजी गजल कहते हैं 

एक नजर हम पे भी कभी पड़ोस में रहते हैं 

बधाई.

Comment by Arun Sri on June 12, 2012 at 10:21am

हम तो धूप के राही साथ-साथ सूरज है..
जिस्म जिनके नाज़ुक हैं चाँदनी से डरते हैं..

वाह ! वाह ! क्या उम्दा गज़ल कही ! बहुत बढ़िया !

Comment by Yogi Saraswat on June 12, 2012 at 10:20am

कुछ न कुछ तो होगा ही इसलिए जहां वाले..
आदमी की सूरत में आदमी से डरते हैं..

क्या बात है श्री असफाक अली साब ! बहुत बढ़िया ग़ज़ल ! एक एक अश'आर खूबसूरत !

Comment by SANDEEP KUMAR PATEL on June 12, 2012 at 9:17am

waah waah ..................bahut khoob ,daad kubool kijiye aadarneey

Comment by UMASHANKER MISHRA on June 11, 2012 at 11:16pm

आपके इस गज़ल की प्रशंसा के लिए शब्द नहीं है मेरे पास

असफाक जी. जो भाव मेरे मन में दुष्यंत जी के लिए है

वही भाव आपके प्रति है. आपकी सभी गजलें मन को भाती हैं

आपका आभार बहेतरीन ग़ज़लों के लिए

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

Chetan Prakash commented on Chetan Prakash's blog post ग़ज़ल
"आदाब, आदरणीय, आप सही कह रहै है अवकाश मिलते ही आपके संकेतानुसार पुनः सही स्वरूप में…"
7 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on Dr. Vijai Shanker's blog post कौन हो तुम — डॉo विजय शंकर
"आ. भाई विजय शंकर जी, सादर अभिवादन । बहुत अच्छी रचना हुई है । हार्दिक बधाई।"
7 hours ago
Chetan Prakash commented on Chetan Prakash's blog post रोटी
"मोहतरम जनाब, समर कबीर साहब, आदाब, आप कविता, रोटी .तक पहुँचने की ज़हमत की, इसके लिए आपका बहुत-बहुत…"
8 hours ago
Samar kabeer commented on Chetan Prakash's blog post ग़ज़ल
"'हलचल भी नहीं है' तो रदीफ़ है, क़वाफ़ी मतले में 'वो' और 'तो' हैं, बाक़ी…"
8 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post बड़ी नज़ाकत से हमने .....
"आदरणीय  Samar kabeer जी सृजन के भावों को आत्मीय मान से अलंकृत करने का दिल से आभार।"
8 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post दस्तक :
"आदरणीय  Samar kabeer जी सृजन के भावों को आत्मीय मान से अलंकृत करने का दिल से आभार।"
8 hours ago
Chetan Prakash commented on Chetan Prakash's blog post दौड़ अपनी-अपनी (लघु- कथा)
" मोहतरम जनाब, समर कबीर साहब, आदाब, आपने लघुकथा " दौड़ अपनी अपनी" तक पहुँचने की…"
8 hours ago
Chetan Prakash commented on Chetan Prakash's blog post ग़ज़ल
"आदाब आदरणीय, समर कबीर साहब ,  उक्त ग़ज़ल के मतले के दोनों मिसरों में चूँकि एक ही काफिया ( हलचल…"
9 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सब्र दशकों से किये है -लक्ष्मण धामी'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई समर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति व प्रशंसा के लिए आभार।"
9 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post सब्र दशकों से किये है -लक्ष्मण धामी'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई विजय शंकर जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और सराहना के लिए धन्यवाद ।"
9 hours ago
Usha Awasthi commented on Usha Awasthi's blog post केवल ऐसी चाह
"आ0 समर कबीर साहेब, आदाब हार्दिक धन्यवाद,आपका"
10 hours ago
Samar kabeer commented on Dr. Vijai Shanker's blog post कौन हो तुम — डॉo विजय शंकर
"जनाब डॉ.विजय शंकर जी आदाब, उम्मीद है आप ख़ैरियत से होंगे । बहुत उम्द: रचना हुई है,बहुत दिनों बाद…"
11 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service