For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

हास्य ग़ज़ल - खूब फटे में टांग अड़ाएं

यार चलो  नेता बन जाएँ

खूब  फटे  में टाँग अड़ाएँ  

 

शेयर जैसे सुबह उछलकर,

लुढ़क शाम को नीचे आएँ

 

जंतर मंतर पर जाकर हम,

मूंगफली  का  भाव बढ़ाएँ

 

उल्टा पुल्टा बोल बोल कर,

चप्पल, जूते, थप्पड़ खाएँ

 

यदि विपक्ष में पड़े बैठना,

संसद में हम शोर मचाएँ

 

कभी किसी पर कभी किसी पर,

अपनी उँगली रोज उठाएँ

 

आये जब चुनाव का मौसम,

चंदा लेकर मौज उड़ाएँ

 "मौलिक एवं अप्रकाशित "

Views: 89

Comment

You need to be a member of Open Books Online to add comments!

Join Open Books Online

Comment by बसंत कुमार शर्मा on July 17, 2017 at 5:21pm

आदरणीय  Saurabh Pandey जी , आपके आशीष को सादर नमन 


सदस्य टीम प्रबंधन
Comment by Saurabh Pandey on July 17, 2017 at 4:16pm

हास्य की छौंक के साथ पठनीय ग़ज़ल प्रस्तुत की है आपने आदरणीय बसंत भाई जी. 

शुभ-शुभ

Comment by बसंत कुमार शर्मा on July 17, 2017 at 3:54pm

ह्रदय से आभार आपका आदरणीया KALPANA BHATT  जी  

Comment by KALPANA BHATT on July 16, 2017 at 6:31pm

बढ़िया ग़ज़ल हुई है आदरणीय | हार्दिक बधाई |

Comment by बसंत कुमार शर्मा on June 12, 2017 at 12:33pm

ह्रदय से आभार आपका आदरणीय  Mohammed Arif  जी  

Comment by Mohammed Arif on June 10, 2017 at 10:47pm
आदरणीय बसंत कुमार शर्मा जी आदाब, बहुत बढ़िया हास्य ग़ज़ल । बधाई स्वीकार करें ।
Comment by बसंत कुमार शर्मा on June 7, 2017 at 8:54pm

ह्रदय से आभार आदरणीय महेंद्र कुमार जी आपका 

Comment by बसंत कुमार शर्मा on June 7, 2017 at 8:54pm

ह्रदय से आभार आदरणीय रवि शुक्ला जी आपका

Comment by Mahendra Kumar on June 7, 2017 at 7:37pm

व्यंग्यात्मक पुट लिए बहुत ख़ूब मज़ाहिया ग़ज़ल कही है आपने आ. बसंत जी. हार्दिक बधाई स्वीकार कीजिए. सादर.

Comment by Ravi Shukla on June 7, 2017 at 2:07pm

आदरणीय बसंत जी बहुत बढि़या गजल कही है आपने शेर दर शेर मुबारक बाद कुबूल करें ।

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

narendrasinh chauhan commented on laxman dhami's blog post कभी गम के दौर में भी हुई आखें नम नहीं पर- लक्ष्मण धामी ‘मुसाफिर’
"खूब सुन्दर रचनाओं   के लिए  हार्दिक बधाई सादर "
2 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा-कुत्ता संस्कृति
"आली जनाब मोहतरम समर कबीर साहब लघुकथा पर अपनी अमूल्य प्रतिक्रिया देने और हौसला अफज़ाई का बहुत-डहुत…"
2 hours ago
Mohammed Arif commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा-कुत्ता संस्कृति
"आदरणीय आशुतोष जी लघुकथा पर अपनी अमूल्य प्रतिक्रिया देकर मान बढ़ाने का बहुत-बहुत आभार ।"
2 hours ago
Dr Ashutosh Mishra commented on laxman dhami's blog post कभी गम के दौर में भी हुई आखें नम नहीं पर- लक्ष्मण धामी ‘मुसाफिर’
"आदरणीय लक्षमण जी अच्छी ग़ज़ल के लिए हार्दिक बधाई सादर "
2 hours ago
Dr Ashutosh Mishra commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा-कुत्ता संस्कृति
"आदरणीय आरिफ जी ..आजकल के चलन को इस रचना के माध्यम से बखूबी चित्रित किया है आपने इस शानदार रचना के…"
3 hours ago
Profile IconDr.Shrihari Wani and Garima joined Open Books Online
3 hours ago
Dr Ashutosh Mishra commented on Dr.Prachi Singh's blog post भीगी सी रुत आई ....//डॉ० प्राची
"आदरणीया प्राची जी हमेशा की तरह शानदार इस गीत पर ढेर सारी बधाई स्वीकार करें ...आदरणीय समर सर के…"
3 hours ago
KALPANA BHATT commented on Sushil Sarna's blog post तन्हा...
"सुंदर रचना आदरणीय शरर का मतलब क्या है आदरणीय | सादर "
3 hours ago
Samar kabeer commented on Mohammed Arif's blog post लघुकथा-कुत्ता संस्कृति
"जनाब मोहम्मद आरिफ़ साहिब आदाब,अच्छी लगी आपकी लघुकथा,इस प्रस्तुति पर बधाई स्वीकार करें ।"
3 hours ago
Samar kabeer commented on Samar kabeer's blog post 'महब्बत कर किसी के संग हो जा'
"जनाब लक्ष्मण धामी जी आदाब,सुख़न नवाज़ी के लिये बहुत बहुत शुक्रिया ।"
3 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post तन्हा...
"आदरणीय समर कबीर साहिब सृजन के भावों को मान एवं सुझाव देने का हार्दिक आभार।"
7 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post तन्हा...
"आदरणीय नरेंद्र सिंह चौहान जी सृजन की प्रशंसा के लिए आपका हार्दिक आभार।"
7 hours ago

© 2017   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service