For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

All Blog Posts (17,255)

रफ़ी का एक सदाबहार नगमा--------------भाग-2

फिल्म-- हीर राँझा

गायक-- रफ़ी

गाना का बोल-- ये दुनिया ये महफ़िल



ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....

ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....



किसको सुनाऊ हाल दिल-ए-बेकरार का

बुझता हुआ चिराग हूँ अपने मजार का..

ए काश भूल जाऊ मगर भूलता नहीं...

किस धूम से उठा था जनाज़ा बहार का....

ये दुनिया ये महफ़िल मेरे काम की नहीं....मेरे काम की नहीं....



अपना पता मिले न खबर यार की…
Continue

Added by PREETAM TIWARY(PREET) on April 19, 2010 at 2:07pm — 2 Comments

दिल की बीमारियों से बचाता है बिटामिन बी

दिल की बीमारियों से बचाता है बिटामिन दिल की बीमारियों से बचाता है बिटामिन बी:-:-



प्रतिदिन विटामिन बी से भरपूर आहार लेने से दिल की बीमारियों और स्ट्रोक से बचा जा सकता है।



स्ट्रोक अखबार की खबर के मुताबिक, जापान में शोधकर्ताओं ने पाया कि विटामिन बी और बी 6 से भरपूर भोजन महिलाओं और पुरुषों में स्ट्रोक यानी मस्तिष्क में खून की आपूर्ति बाधित होना और दिल की बीमारियों के खतरे को कम करता है।



शोध करने वाले प्रमुख शोधकर्ता हिरोयासु इसो ने कहा कि जापान के लोगों को विटामिन… Continue

Added by prince dubey on April 18, 2010 at 1:30am — 2 Comments

हसना मना है........एक मुलाकात सब्जियों से

माननीय गोभी जी

आदरनीय बेंगन महाराज

माद्किया प्याज चाचा

प्यारे मटर मामा



गाजर दादा

काका केला जी

निम्बू नानी

बाबा बंद गोभी महाराज

सबके साले शकरकंद… Continue

Added by Ratnesh Raman Pathak on April 18, 2010 at 12:15am — 5 Comments

अइसन होले नेता

आईल जब चुनाव त नेता जी दिहले दिखाई ।

हाथ जोड़ के सबसे कहले वोट हमरे के दिहजा भाई।। दिन मे हाथ जोड़ पाव पड़ सबसे वोट मंगीहे भाई। राती मे घरे घरे नोट , दारु के गंगा दिहे बहाई।।

करिहे वादा कि बिजली हैन्डपम्प घरे घरे देब लगवाई।

सड़क नाली स्कूल तलाब नहर सब कुछ देब बनवाई।।

आप सब मिल के हमके सांसद दिही बनाई।

सब कर मनरेगा मे काम देब लगवाई।।

अगर बन जाइब मंत्री त अफसर लोग के दिमाग देब ठिक कराई।

आप सब के अन्नपुर्णा योजना के कार्ड घरे घरे देब पहुचाई।।

दारु गुन्डागर्दी के… Continue

Added by Mahesh Jee on April 17, 2010 at 11:41pm — 4 Comments

Love Poem

heres this girl....
she says shes fine.
she says everything is ok.
she smiles,she laughs.
she even has many friends.
but that girl,
she may say shes fine
but she is not ok.
everything is falling apart,..

Added by Rupal Singh on April 17, 2010 at 10:19pm — 5 Comments

Characteristics Of Loving Men

Every woman dreams of meeting that special man that knows how to fulfill her heart’s romantic desires. Speaking of that special someone; is your special someone a lover or just an average Joe? No pun intended if your guy’s name is Joe. This article will outline the 27 characteristics of a loving man. If your man is one of them, then you must do all that you can to make sure he does not slip through your fingers. However, if he falls in the average Joe category, then help him by telling him what… Continue

Added by Rupal Singh on April 17, 2010 at 10:12pm — 3 Comments

ज़ख्मे दिल

रोज़ एक ज़ख्म नया दिल पे लगाया तूने

मेरी हंसती हुई आँखों को रुलाया तूने









खो चुका था मै गमो दर्द के सन्नाटों में

मेरी बेताब तमन्ना को जगाया तूने









मेरी उल्फत को न समझी है न समझेगी कभी

जब भी फुर्सत मिली इस दिल को दुखाया तूने









गैर की बज़्म सजाने के लिए तूने सनम

मुझसे हर रोज़ बहाना ही बनाया तूने









तेरा एक एक सितम हंस के "अलीम" ने सहा

उसके lab पर कभी शिकवा तो न पाया… Continue

Added by aleem azmi on April 17, 2010 at 7:04pm — 4 Comments

"लेवे दी जन्म बेटियन के धरती पर"

लेवे दी जन्म बेटियन के धरती पर



मत बजाएम रऊरा थरीया चाहे



ना तऽ के बजाई,थरीया पितल के



रऊरा भाई-भतीजन के जन्म पर



लेवे दी जन्म बेटियन के धरती पर



मत गाएम रऊरा मंगल गीत चाहे



ना तऽ के गाई गीत



रऊरा लइकन के विआह में



लेवे दी जन्म बेटियन के धरती पर



मत देहब कौनो विश्वास उनका के



ना तऽ कइसे कराएम,रऊरा



दर्ज अदालत में ,मामला घरेलू हिंसा के



लेवे दी जन्म बेटियन के धरती… Continue

Added by Raju on April 16, 2010 at 3:56pm — 4 Comments

हेलो तू के बोलत बारु ,.......

हेलो तू के बोलत बारु ,.......

फुल झारी कहवा से ..........

देवरिया अरे हम ता छपरा मिलवाले रहनी हा ,.................

अच्छा हमार बात रौआ आच्छा लगत बा .......................

का कहानी फेर से फोन करेम ........

बाकिर राउर नंबर नइखे हमारा लागे ...............

कैसे फोन कईनि हा रोंग नोमाबर लागल बा..................

ओह लिख ली ता बोली ..........................

९३३५............ठीक बा फोन करब ,



जय हो जय हो फोन बाबा के जय हो ,

एगो बीबी रहल एगो महबूबा… Continue

Added by Rash Bihari Ravi on April 15, 2010 at 8:33pm — 5 Comments

dil - e - pareshaan

अब तो दिन ढल चूका है चले आईये
दिल धड़कने लगा है चले आईये

जाने फिर अब मुलाकात हो न हो
दिल लबों पर रुका है चले आईये

भीग कर रुक न जाए कही आज फिर
देखो बादल उठा है चले आईये

दिल परेशा है नींद आती नहीं
दीप बुझने लगा है चले आईये

दिल की दहलीज़ पर आकर रुक क्यों गए
सारा घर आपका है चले आईये

मेरे दिल में एक काँटा चुभा है "अलीम"
ख़त उन्होंने लिखा है चले आईये

Added by aleem azmi on April 15, 2010 at 4:37pm — 6 Comments

जाने एक पहाड़ी को

आप अब तक ये जानते है कि किसी ढलान पर कार को न्यूट्रल मे कर दे तो वह निचे की तरफ लुढकने लगती है। लेकिन फ्लोरिडा के लेक वेल्स का स्पूक हिल इलाका अपने आप मे एक अजुबा है जहा पर फिजिक्स के नियमो के विपरीत काम होता हैं। ग्रेविटेशनल ला के हिसाब से कोई भी वस्तु ऊपर से नीचे की तरफ आती है। पर स्पूक हिल पे वस्तु नीचे से ऊपर कि तरफ जाती हैं। यहां आकर लोग पहाड़ी के निचे अपनी कार खड़ी कर देते हैँ। कुछ ही पल मे कार अपने आप पहाड़ी पर चढ़ने लगती हैँ। यहा ऐसा कुछ भी नही दिखता जिससे पता चले कि कोई अज्ञात ताकत कारो को… Continue

Added by Mahesh Jee on April 15, 2010 at 3:32pm — 4 Comments

कुछ रोचक जानकारी...भाग--2

1...फिरोज तुगलक वह सल्तनत शशक था जिसने लाचार महिलाओ,विधवाओ और लड़कियों की सहायता के लिए दीवान-ऐ-खैरात विभाग की स्थापना की थी...........



2...मियां का मल्हार और मियां की तोड़ी नामक ग्रन्थ की रचना तानसेन ने की थी..जो की अकबर के नवरत्न कहे जाते थे.........



3...डुप्ले वह फ़्रांसिसी गवर्नर था जिसने भारत में सर्वप्रथम सहायक संधि का प्रयोग किया था.................



4...हिंदी,हिन्दू,हिंदुस्तान का नारा भारतेंदु हरिश्चंद्र ने दिया था............



5...निलगिरी की…
Continue

Added by PREETAM TIWARY(PREET) on April 15, 2010 at 8:30am — 4 Comments

सस्ता में सेहत का रखे ध्यान..अगर है गर्मी से परेसान

गर्मी में ज्यादा भरी काम नहीं करना चाहिए
तंग जगह ,जहा खुली व् साफ़ हवा न मिले ,पर काम नहीं करना चाहिए
तरल पदार्थ तथा नमक का अधिक प्रयोग करना चाहिए,जैसे निम्बू-पानी,सरबत
दीं में आठ से दस ग्लास पानी पिए
सूती,हलके रंग तथा ढीले कपडे पहने
छोटे बच्चो को बाहर न निकलने दे
गर्दन पर गिला कपडा या तौलिया रखे
धुप में जाने का छतरी का इस्तेमाल करे
आँखों पर कला चस्मा लगाये ,तथा सिर पर टोपी
बराद,सेरलाक,सब्जिय,तरबूज,खिड़ा,ककरी का अधिक तथा सरब का कम सेवन करे.

Added by Ratnesh Raman Pathak on April 14, 2010 at 5:04pm — 4 Comments

दीए चाहत के

आँखों में बस के दिल में समां कर चले गए
ख्वाब्दीदा ज़िन्दगी थी जगा कर चले गए




चेहरे तक आस्तीन वह लाकर चले गए
क्या राज़ था की जिसको छुपाकर चले गए




रगरग में इस तरह समां कर चले गए
जैसे मुझ ही को मुझसे चुरा के चले गए




आये थे दिल की प्यास बुझाने के वास्ते
एक आग सी वह और लगाकर चले गए




lab थर थरा के रह गए लेकिन वो ऐ "अलीम "
जाते हुए निगाह मिलाकर चले गए .

Added by aleem azmi on April 14, 2010 at 11:26am — 5 Comments

कुछ रोचक जानकारी.................

1...कोलंबस भारत देस की खोज में निकला था लेकिन वह अमेरिका पहुच गया...............



2...पुर्तगालियो ने गोवा पर १५१०ई में अधिकार किया था.................



3...कर्नाटक का युद्ध इंग्लैंड और फ्रांस के बीच हुआ था...............



4...टीपू सुल्तान की राजधानी श्रीरंग्पत्त्नम थी............



5...महाराज रंजित सिंह की राजधानी लाहौर में थी जो की अभी पाकिस्तान में है...........



6...भारत में अंग्रेज राज्य का संस्थापक लोर्ड क्लीव…
Continue

Added by PREETAM TIWARY(PREET) on April 14, 2010 at 9:12am — 4 Comments

लोग...

ऐसे लोग.. वैसे लोग..

मिरे जैसे नहीं होते अब,

मिरे चेहरे जैसे लोग..

किताबों में ढूढ़ते..

गुजरते वक़्त को,

कब के गुजर गए;

गुजरे वक़्त जैसे लोग..

ये काबा तेरा;

ये शिवाला मेरा,

नींदों में कंधा बाँटते..

ये सरहदों जैसे लोग..

मंदिर की चौखट पे;

होती थी बैठकबाजी,

जाने कब मुसलमाँ बने;

ये मज़हबों जैसे लोग..

अजमत-ए-खुदा थी;

जो रंग-ए-सुर्ख दिया,

कल ज़मीन से निकलते;

नीले-पीले से लोग..

लिखता हूँ नज़्म;

बन जाती है… Continue

Added by विवेक मिश्र on April 13, 2010 at 9:55am — 7 Comments

आँसू

केहू के प्यार के एहसास बा आँसू। केहू के खुशी के अरमान बा आँसू । केहू के जिनगी के फरमान बा आँसू। केहू के याद के अन्जाम बा आँसू। केहू के आँख के अल्फाज बा आँसू। केहू के जुदाई के दर्द जान बा आँसू। केहू के बेवफाई के इल्जाम बा आँसू। केहू के बुझल दिल के जुबान बा आँसू। केहू के मौत के पैगाम बा आँसू। केहू के विदाई के रस्म रिवाज बा आँसू। केहू से मिलल प्यार के दर्द जवाब बा आँसू। जी के जिनगी के हिसाब बा आँसू।

Added by Mahesh Jee on April 12, 2010 at 11:53pm — 1 Comment

PROUD OF BIHAR

Dr. RAJENDRA PRASHAD (1st president of india)

RAMDHARI SINGH DINKAR (poet)

GAUTAM BUDHHA (shanti doot)

VEER KUAR SINGH (freedom fighter)

these r the person who makes us proud

Added by sushmit singh on April 12, 2010 at 3:50pm — 8 Comments

Apni Pehchan

खुद से रु ब रु होने के बाद भी
हम अपनी पहचान के लिए
आएने क्यों तलाशते हैं
आएने झलक दिखा देते हैं
जिस्मानी अक्स की
रुहानी अक्स की पहचान
हम इन में कहाँ पाते हैं

Added by rajni chhabra on April 12, 2010 at 9:28am — 5 Comments

hum zindagi se kya chahte hain

हम जिंदगी से क्या चाहते हैं

-----------------------

हम खुद नहीं जानते

हम जिंदगी से क्या चाहते हैं

कुछ कर गुजरने की चाहत मन में लिए

अधूरी चाहतों में जिए जाते हैं



उभरती हैं जब मन में

लीक से हटकर ,कुछ कर गुजरने की चाह

संस्कारों की लोरी दे कर

उस चाहत को सुलाए जाते हैं



सुनहली धुप से भरा आसमान सामने हैं

मन के बंद अँधेरे कमरे में सिमटे जाते हैं



चाहते हैं ज़िन्दगी में सागर सा विस्तार

हकीकत में कूप दादुर सा जिए जाते… Continue

Added by rajni chhabra on April 11, 2010 at 12:50pm — 7 Comments

Monthly Archives

2020

2019

2018

2017

2016

2015

2014

2013

2012

2011

2010

1999

1970

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Activity

मोहन बेगोवाल replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"आदरणीया बबिता जी, बहुत अच्छे से बुनी लघुकथा के लिए बधाई हो l"
4 minutes ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"सादर नमस्कार। आदरणीया अर्चना त्रिपाठी जी ने बहुत ही बड़ी और महत्वपूर्ण बात अपनी टिप्पणी में कह ही दी…"
3 hours ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"अमानत ब्याह में आई बेटियों की बिदाई की रस्म में पिता का सहयोग कर रेवती मम्मी के पास पहुंची। बेटियों…"
3 hours ago
Sheikh Shahzad Usmani replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"आदाब। साहित्यिक पत्रिका वेबसाइट जगत की धरोहर ओबीओ लघुकथा गोष्ठी के इस मासिक अंक 60 में आपकी…"
3 hours ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"आ. रवि भसीन शाहिद जी ,आपकी कथा आज दिन ब दिन बढ़ते विवाद को सुलझाने की सीढ़ी हो सकती है।हार्दिक बधाई…"
3 hours ago
Archana Tripathi replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"बढ़िया कथा आ. बबिता गुप्ता जी, वाकई में कर्जे की धरोहर अत्यंत पीड़ादायी होती हैं।हार्दिक बधाई आपको"
3 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"धरोहर (लघुकथा) ताज महल की सैर कर रहे राहुल और प्रियंका ख़ूब मूड में थे। घूम-घूम कर थक गए तो एक जगह…"
5 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"आदरणीया बबिता गुप्ता जी, बहुत ख़ूब! दिल को छू गई आप की लघुकथा।"
5 hours ago
babitagupta replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"धरोहर 'विचारा लख्खाराम को मौत के मुंह में उसकी बीमारी से ज्यादा कर्ज के बोझ की चिंता ने ढकेल…"
6 hours ago

प्रधान संपादक
योगराज प्रभाकर replied to Admin's discussion "ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी" अंक-60 (विषय: धरोहर)
"ओबीओ लाइव लघुकथा गोष्ठी अंक-६० में आप सभी का हार्दिक स्वागत है."
7 hours ago
गिरधारी सिंह गहलोत 'तुरंत ' posted blog posts
8 hours ago
रवि भसीन 'शाहिद' commented on अमीरुद्दीन खा़न "अमीर "'s blog post ग़ज़ल
"आदरणीय अमीरुद्दीन ख़ान 'अमीर' साहिब, मैं शुक्रगुज़ार हूँ कि आपने नाचीज़ की सलाह पर ग़ौर किया।…"
8 hours ago

© 2020   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service