For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

बाबा सत्येन्द्र नाथ के तीन दावा

कल एगो सीरियल देत रहे न्यूज़ चैनल INDIA TV पर...एगो बाबा बा स्वामी सत्येन्द्र नाथ....ओहीके प्रोग्राम देत रहे ......
वो प्रोग्राम में बाबा तीन गो दावा किले बा तानी रुआ लोग भी देखि सभे........

१..... उनकर पहिला दावा बा की वो एगो ऐसन तरल पदार्थ बनवले बा जेकरा के
पीयला के बाद आदमी में उमिर ओकर असली उमिर से बीस साल कम हो जाई....वो तरल
पदार्थ के नाम बाबा अमृत रखले बा...और बाबा के दावा बा की वो अमृत बिना
कौनो हानि के बा......वो और कहले की १७ साल के कठिन प्रयास और लगन के बाद
वो बनल बा.....बाबा कहलस की वो हिमालय पर १७ साल -६ डिग्री तापमान पर रहके
बनवले बा.....वो अमृत के बनावे में १७ दुर्लभ जड़ी बूटी के इस्तेमाल भेल
बा.......


२.... उनकर दूसरा दावा ई बा की धरती पर एलियन यानी दोसरा ग्रह के प्राणी और जीव जंतु आवत रहेला...वो बाबा ओकनी के पैर के निशान देखले बारे.....और
कब्बो कब्बो ओकनी के सामने से भी देखले बारे......


३.... और उनकर तीसरा दावा बा की वो ५००० साल पुराना पाण्डुलिपि के पढ़ के दुनिया के ख़तम होखे के समय निकाले बारे की ई दुनिया २ साल बाद ख़तम हो
जाई यानी की कलयुग ख़तम हो जाई और फेर से सतयुग आई......और वो ई दावा पर
अडिग बारे......



अब हम रुआ लोग से एहे जाने के चाहत बनी की ई बात में केतना सच्चाई हो सकत बा......का आजकल के विज्ञानं और तकनीक के दुनिया में ई सब संभव बा......
का वो अमृत पीयला के बाद आदमी के उमिर २० साल कम हो सकत बा....
का सही में ई दुनिया २ साल बाद ख़तम हो जाई बाबा के दावा के अनुसार.......

Views: 732

Reply to This

Replies to This Discussion

प्रीतम जी, सबसे पहिले त हम रौवा के धन्यवाद देब की रौवा एगो और बाबा के खुराफात के बारे मे जानकारी इहा दिहनी हा , इ बबवन से अब आस्था उठल जात बा अब त साधू के भेष मे इ कुल्ही डाकू से कम नइखन सन लागत,

१..... उनकर पहिला दावा बा की वो एगो ऐसन तरल पदार्थ बनवले बा जेकरा के
पीयला के बाद आदमी में उमिर ओकर असली उमिर से बीस साल कम हो जाई....वो तरल
पदार्थ के नाम बाबा अमृत रखले बा...और बाबा के दावा बा की वो अमृत बिना
कौनो हानि के बा......वो और कहले की १७ साल के कठिन प्रयास और लगन के बाद
वो बनल बा.....बाबा कहलस की वो हिमालय पर १७ साल -६ डिग्री तापमान पर रहके
बनवले बा.....वो अमृत के बनावे में १७ दुर्लभ जड़ी बूटी के इस्तेमाल भेल
बा.......


अगर बाबा कवनो अइसन दवा बनवले बाडन त वोके टेस्ट करे मे समय केतना लागी , बहुत अइसन बुढ पुरनिया हॉस्पिटल मे आवेलन जे बिलकुल मरे के कगार पर होलन वो लोगन पर बाबा के दवा के पर्योग करे के चाहि, आ अगर फेल होत बा त बाबा के चाम सोटा से मार मार खीच लेवे के चाहि, अइसन सब के सबक सिखावे खातिर सरकार के आगे आवे के चाहि,

२.... उनकर दूसरा दावा ई बा की धरती पर एलियन यानी दोसरा ग्रह के प्राणी और जीव जंतु आवत रहेला...वो बाबा ओकनी के पैर के निशान देखले बारे.....और
कब्बो कब्बो ओकनी के सामने से भी देखले बारे......


इ दावा त बहुत लोग समय समय पर करत रहेला, आ एह दावा से समाज पर कुछ अंतर नैखे पडे वाला ,


३.... और उनकर तीसरा दावा बा की वो ५००० साल पुराना पाण्डुलिपि के पढ़ के दुनिया के ख़तम होखे के समय निकाले बारे की ई दुनिया २ साल बाद ख़तम हो ,जाई यानी की कलयुग ख़तम हो जाई और फेर से सतयुग आई......और वो ई दावा पर
अडिग बारे......


बाबा अपने दावा से आपन दवाई के महत्व के घटावत बाडन, जब धरती २ साल ही रही वोकर बाद सब तबाह हो जाई त उनकर उम्र घटावे वाला दवाई के का होई भाई , आ इ दावा मे हमरा कवनो सचाई नैखे लौकत, खली सस्ता लोकप्रियता पावे के एगो उपाय ही बुझात बा.
आ इ मीडिया वालन के ता समझे मे नैखे आवत की इ कुल देखा के समाज के कवन दिशा दिहल चाहत बाडन सन .
bahut sahi kahni admin jee....humro kahe ke ehe arth rahe....bas dekhal chahat bani ki raua sabhe ke kaa ray baa ehpar.....

dhanybaad admin jee...aisehi utsaah badhawat rahi jekra kaaran likhe ke prerna milat raho.......
बहुत बढ़िया प्रीतम जी, रौवा कमाल के न्यूज़ लाईल बानी , हम Admin जी के बात से पूरी तरह सहमत बानी, इ सब बबवन के आपन दूकान चमकावे के चाल ह , पर अब लोग वोतना बेवकूफ नैखे की कवनो बात पर आँख मुद के भरोशा कर लिही , अगर सही बा त प्रमाणित करे के चाहि, नहीं त हमके कोरी बकवास ही लागत बा.
preetam jee aaj ke scintifi jamana me hum ka koi eh baat ke mane khatir taiyar na hoi ki aisan ho sakela.e ta aisan news baa jawan ki sarasar bakwas lag rahal ba .hamar mani ta oh pakhandi ke pakad ke etna kaam bhar dihal jaw phir kabo aisan kaaam na karo.jara raue sochi ki jab aisan hokhe lagi ta bhagwan ke puja kari .sabhe eh baba ke hi puja kare lagi.desh ke badka badaka aadmi okar amrit leke laika ban jayihe.sonia gandhi ,atal baba sab koi hamani se chhot ho jaihe.phir ta koi budhail na chahi jee.
hahahaha, bahut sahi Ratnesh bhai, ham raaur baat sey puri tarah sahmat baani.
ham ta kahab hath kangan ko aarsi ka padhe likhe ko farsi ka , ham admin ji se sahmat bani,
jee sab kehu ke baat sahi baa.....
hamar kahna ee baa ki jab wo baba bhavishyawani kare me baba baa ta kahe naa etna murder ho rahal ba,khoon kharaba ho rahal baa roj,chori dakaiti ho rahal baa roj.....okar bhavishyawani kari taaki okra ke rokal jaa sako......

ee sab baba san ke ego chaal baa publicity kamaye ke aur naam kare ke.......
kahe ki kuch din pahile hi juan baba ke kaarnaama sab saamne aail baa ohse sab baba san ke chavi kharab ho gail jekra ke dekhte hue ee shayad naya chaal baa baba san ke ki kuch naam hokho naya karke.....

agar sahi kaam ke bhavishyawani hokho ta ego baat baa faaltu ke kaam kar rahal bara san babawa sab ekra se kaa faayda baa.......
ehme bahut had tak galti humni ke bhi baa kahe ki humni ke sunat bani jaa tab nu baba sab kahat bara san...agar humni ke ek jut ho ke kahi jaa ki kar ke dekhawa ta kauno baba ke muh naa khuli wo samay...............
ekra khatir aage aaila ke jaroorat baa.ego aandolan kaila ke jaroorat baa pakhandi baba san ke khilaf...........

bas ab aur baad me likhab ab raua sab boli jaa ki hamar baat me kaa sahi baa...............aur agar galat hokho ta wo bhi kahi sabhe
Preetam bhaiya ee kul impossible ba........ee BABA log k aapan naam chamkawe ke tarika ba bas.......

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post चाँद को जब बदसूरत करने - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
""आ. भाई अमीरूद्दीन जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए हार्दिक…"
11 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post ढूँढा सिर्फ निवाला उसने - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आठवें शेर में पर का अर्थ दूसरों से है । "
11 hours ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post ढूँढा सिर्फ निवाला उसने - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"आ. भाई अमीरूद्दीन जी, सादर अभिवादन । गजल पर उपस्थिति और उत्साहवर्धन के लिए धन्यवाद। आपने गजल को…"
11 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post चाँद को जब बदसूरत करने - लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' (गजल)
"जनाब लक्ष्मण धामी भाई मुसाफ़िर जी आदाब, पर्यावरण पर चिंता के भाव से उम्दा ग़ज़ल कही है आपने, दाद के…"
14 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आदरणीय समर कबीर सर् सादर नमस्कार।सर् ग़ज़ल तक आने तथा मार्गदर्शन करने के लिए आपकी आभारी हूँ।सर्…"
14 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on सालिक गणवीर's blog post एक ही जगह बस पड़ा हूँ मैं......( ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"जनाब सालिक गणवीर जी आदाब, क्या ख़ूब ग़ज़ल कही है आपने, उस्ताद मुहतरम की इस्लाह पर अमल के बाद ग़ज़ल…"
15 hours ago
Rachna Bhatia commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' जी नमस्कार।ग़ज़ल तक आने तथा हौसला बढ़ाने के लिए आपकी आभारी हूँ…"
15 hours ago
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल (1222 1222 122)
"धन्यवाद आ० समर कबीर गुरु जी मार्गदर्शन करते रहें"
15 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Manoj kumar Ahsaas's blog post अहसास की ग़ज़ल : मनोज अहसास
"जनाब मनोज 'अह्सास' जी आदाब, अच्छी ग़ज़ल हुई है मुबारकबाद पेश करता हूँ, मिसरा- उठती नहीं…"
18 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on Rachna Bhatia's blog post ग़ज़ल- रूह के पार ले जाती रही
"मुहतरमा रचना भाटिया जी आदाब, रूहानी अंदाज़ में अच्छी ग़ज़ल हुई है मुबारकबाद पेश करता हूँ, उस्ताद…"
19 hours ago
अमीरुद्दीन 'अमीर' commented on amita tiwari's blog post सर्दीली सांझ ऐसे आई मेरे गाँव
"मुहतरमा अमिता तिवारी जी आदाब, सुंदर रचना हुई है, हृदय तल से बधाईयाँ। सादर। "
19 hours ago
Samar kabeer commented on Aazi Tamaam's blog post ग़ज़ल (1222 1222 122)
"जनाब आज़ी तमाम जी आदाब, आपकी ग़ज़ल अभी समय चाहती है, अध्यन करे,इस प्रस्तुति पर बधाई आपको ।"
20 hours ago

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service