For any Query/Feedback/Suggestion related to OBO, please contact:- admin@openbooksonline.com & contact2obo@gmail.com, you may also call on 09872568228(योगराज प्रभाकर)/09431288405(गणेश जी "बागी")

Rash Bihari Ravi's Discussions (1,101)

Discussions Replied To (589) Replies Latest Activity

"कानून का चक्कर , गुनाहगारो के लिए वरदान , बेगुनाहों के लिए अभिशाप , कारन तारीख पर ता…"

Rash Bihari Ravi replied May 6, 2010 to आतंकवादी या अतिथि ?

28 May 10, 2012
Reply by Bhawesh Rajpal

"आज से १८ साल पाहिले २९.०४.१९९२ के हमार सादी भइल रहे आज के दिन हम हम बहुत खुसी से मना…"

Rash Bihari Ravi replied Apr 29, 2010 to खुशियाँ और गम, ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार के संग...

3309 Apr 14
Reply by Aazi Tamaam

"jai ho bahut badhia jandar sandar"

Rash Bihari Ravi replied Apr 26, 2010 to आई पी एल की ज्वाला

5 Apr 26, 2010
Reply by Rash Bihari Ravi

"samrath ke na dosh gosai , i bat tulsidas ji bahut pahile likhale rahani bakir aaj i…"

Rash Bihari Ravi replied Apr 24, 2010 to क्या यही हमारे देश का सुशाशन है....

7 Jun 3, 2010
Reply by Kanchan Pandey

"jankari khatir dhanyabad"

Rash Bihari Ravi replied Apr 23, 2010 to माओवादी के लाल तांडव (सरकार के लापरवाही)

10 Apr 23, 2010
Reply by Rash Bihari Ravi

"bahut badhia rauaa sab koi ke dhanyabad,"

Rash Bihari Ravi replied Apr 7, 2010 to आईये पढ़े और लिखे ख्यातिप्राप्त रचनाकारो की कुछ रचनाये...

39 Aug 24, 2013
Reply by आशीष नैथानी 'सलिल'

"bahut badhia suruaat"

Rash Bihari Ravi replied Apr 6, 2010 to आईये पढ़े और लिखे ख्यातिप्राप्त रचनाकारो की कुछ रचनाये...

39 Aug 24, 2013
Reply by आशीष नैथानी 'सलिल'

"ham ta kahab hath kangan ko aarsi ka padhe likhe ko farsi ka , ham admin ji se sahma…"

Rash Bihari Ravi replied Mar 26, 2010 to बाबा सत्येन्द्र नाथ के तीन दावा

8 Mar 29, 2010
Reply by Raju

"preetam bhai tu iyad karat bara mai ke okara se puchha mai ke bisay me jekara lage m…"

Rash Bihari Ravi replied Mar 20, 2010 to माई

8 Apr 6, 2010
Reply by Amrendra Kumar

RSS

कृपया ध्यान दे...

आवश्यक सूचना:-

1-सभी सदस्यों से अनुरोध है कि कृपया मौलिक व अप्रकाशित रचना ही पोस्ट करें,पूर्व प्रकाशित रचनाओं का अनुमोदन नही किया जायेगा, रचना के अंत में "मौलिक व अप्रकाशित" लिखना अनिवार्य है । अधिक जानकारी हेतु नियम देखे

2-ओपन बुक्स ऑनलाइन परिवार यदि आपको अच्छा लगा तो अपने मित्रो और शुभचिंतको को इस परिवार से जोड़ने हेतु यहाँ क्लिक कर आमंत्रण भेजे |

3-यदि आप अपने ओ बी ओ पर विडियो, फोटो या चैट सुविधा का लाभ नहीं ले पा रहे हो तो आप अपने सिस्टम पर फ्लैश प्लयेर यहाँ क्लिक कर डाउनलोड करे और फिर रन करा दे |

4-OBO नि:शुल्क विज्ञापन योजना (अधिक जानकारी हेतु क्लिक करे)

5-"सुझाव एवं शिकायत" दर्ज करने हेतु यहाँ क्लिक करे |

6-Download OBO Android App Here

हिन्दी टाइप

New  देवनागरी (हिंदी) टाइप करने हेतु दो साधन...

साधन - 1

साधन - 2

Latest Blogs

Latest Activity

लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post यहाँ बस आदमी के भाव ही मंदे बहुत हैं - ग़ज़ल
"आ. भाई बसंत जी, सादर अभिवादन। खूबसूरत सदाबहार गजल के लिए हार्दिक बधाई।"
1 hour ago
लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर' commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हमने कहीं पे लौट आ बचपन क्या लिख दिया-लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आ. भाई बसंत जी, सादर अभिवादन। गजल पर आपकी मनोहारी टिप्पणी से मन हर्षित हुआ । उपस्थिति व सराहना के…"
4 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on लक्ष्मण धामी 'मुसाफिर''s blog post हमने कहीं पे लौट आ बचपन क्या लिख दिया-लक्ष्मण धामी "मुसाफिर"
"आदरणीय धामी जी सादर नमस्कार  अद्भुत गजल हुई है आदरणीय  आनंद आ गया "
5 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on Sushil Sarna's blog post मन पर दोहे ...........
"आदरणीय सादर नमस्कार, उत्तम दोहे हुए हैं आपके, बधाई  एक दोहे में लय भंग हो रही है, यदि उचित लगे…"
5 hours ago
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post यहाँ बस आदमी के भाव ही मंदे बहुत हैं - ग़ज़ल
"आदरणीय Aazi Tamaam जी सादर नमस्कार  आपकी हौसलाफजाई के लिए दिल से शुक्रिया "
5 hours ago
Aazi Tamaam commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post यहाँ बस आदमी के भाव ही मंदे बहुत हैं - ग़ज़ल
"भाव पूर्ण सुंदर ग़ज़ल है सादर प्रणाम अदर्णीय बसंत जी बधाई स्वीकार करें"
5 hours ago
Sushil Sarna commented on Sushil Sarna's blog post गरीबी ........
"आदरणीय लक्ष्मण धामी जी सृजन के भावों को मान देने का दिल से आभार"
yesterday
बसंत कुमार शर्मा posted a blog post

यहाँ बस आदमी के भाव ही मंदे बहुत हैं - ग़ज़ल

मापनी  १२२२ १२२२ १२२२ १२२  धवल हैं वस्त्र, नीयत के मगर गंदे बहुत हैं चिरैया देख! दाने कम उधर फंदे…See More
yesterday
बसंत कुमार शर्मा commented on सालिक गणवीर's blog post ( बेजान था मैं फिर भी तो मारा गया मुझे......(ग़ज़ल :- सालिक गणवीर)
"आ. भाई सालिक गणवीर जी, सादर अभिवादन ।अच्छी गजल हुई है हार्दिक बधाई "
yesterday
Aazi Tamaam commented on Aazi Tamaam's blog post नग़मा: इक रोज़ लहू जम जायेगा इक रोज़ क़लम थम जायेगी
"सादर प्रणाम आदरणीय धामी सर सहृदय शुक्रिया हौसला अफ़ज़ाई और इस खुशनवाज़ी के लिये आभार सादर"
yesterday
बसंत कुमार शर्मा commented on बसंत कुमार शर्मा's blog post रश्मियाँ दिखतीं नहीं - ग़ज़ल
"आदरणीय अमीरुद्दीन 'अमीर' जी सादर नमस्कार आपकी हौसला अफजाई के लिए दिल से शुक्रिया "
yesterday
Aazi Tamaam replied to Admin's discussion "ओबीओ चित्र से काव्य तक छंदोत्सव" अंक- 120 in the group चित्र से काव्य तक
"कुछ चुनावी कर्म में....... बेहद खूबसूरत कटाक्ष है सादर प्रणाम आदरणीय प्रतिभा जी प्रदत्त विषय पर…"
yesterday

© 2021   Created by Admin.   Powered by

Badges  |  Report an Issue  |  Terms of Service